ब्रेकिंग
कथा स्थल में नारियल वितरण के दौरान मची भगदड़, 16 महिलाएं घायल, इधर 576 दिन से नर्मदा परिक्रमा कर रहे संत समर्थ सदगुरु की बगड़ी तबीयत भगवान गौतम बुद्ध के 12 अनमोल वचन शरीर के इन हिस्सों पर है अगर तिल, होते हैं बुद्धिमान और काम में सफलता करते हैं हासिल थाने में शिकायत करने पर मर्डर: अहाता संचालक की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या करने का VIDEO वायरल, 2 आरोपी गिरफ्तार कर भेजे गए जेल रात को अचानक नींद खुल जाना नहीं है कोई आम बात, आत्माएं देती हैं ये गंभीर संकेत... जान पर भी बन आ सकती है बात शुरू होने जा रहा है नौतपा, तपती गर्मी के कोप और सूर्य देव के क्रोध से है गहरा नाता रमन सिंह को कवर्धा में तगड़ा झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के बेहद करीबी घनश्याम गुप्ता भी टूटे, अकबर ने थमाया कांग्रेस का हाथ अनोखा विरोध प्रदर्शन VIDEO: महंगाई के विरोध में महिला कांग्रेस ने की सिलेंडर की पूजा, सिर पर रखकर किया गरबा नृत्य, बोलीं- थैंक्यू मोदी जी सीएनजी महंगी होने के बाद पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, चेक करें आपके शहर में कितना पहुंचा दाम ये 20 शेयर आज करा सकते हैं तगड़ी कमाई, चेक कर लें लिस्‍ट

कोरोना को परिवार का साथ और अंदर से सकारात्मकता से हरा सकते हैं

26 सितंबर को मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो मुझे थोड़ी घबराहट होने लगी। इसके बाद पत्नी और बेटी भी पॉजिटिव निकली। इसके बाद तो घबराहट और बढ़ गई। उस समय तो कोरोना होने से डर लग रहा थ। जैसे ही हम सभी पॉजिटिव निकले तो अस्पताल में भर्ती हो गए। मुझे शुगर, हाई बीपी और पत्नी को हाई बीपी था इसलिए परेशान ज्यादा हो रहे थे। बेटी भी हम दोनों के कारण घबरा गई थी। फिर हम तीनों ने अस्पताल में एक-दूसरे का ख्याल रखा। तीनों में पत्नी अंदर से मजबूत थी। उन्होंने हम लोगों को बहुत संभाला। इलाज कराकर घर पहुंचे तो हमारी और भी पुरानी बीमारियां उभर कर आ गईं। फिर ज्यादा परेशानी हुई। हालांकि इस बीमारी को परिवार का साथ और अंदर से सकारात्मकता से हरा सकते हैं। करीब डेढ़ माह तक सभी परेशान रहे, लेकिन पूरी तरह ठीक होने में दो माह का समय लगा।

हम लोगों में कोरोना का डर नहीं है। अगर अभी भी सावधानी बरतें तो कोरोना से बच सकते हैं। कोरोना से बचने के लिए अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। बाहर निकले तो सुरक्षा का पूरा ख्याल रखें। मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करें। बाहर से आने के बाद भी पूरी तरह साफ-सफाई का ध्यान रखें। सकारात्मक सोचें और नकारात्मकता से बचें। ईश्वर से प्रार्थना करें, जो हमें संबल प्रदान करती है।

केपीएस तोमर, उप संचालक राज्य शिक्षा केंद्र