ब्रेकिंग
भोपाल के मिशनरी स्कूल में धर्मांतरण: बाप-बेटी समेत 4 आरोपी गिरफ्तार, संचालक फरार, क्रिश्चियन बनने से गरीबी दूर करने का दिया जा रहा था प्रलोभन कांग्रेस नेता का हार्दिक पटेल पर पलटवार, कहा- पार्टी का प्रदेश कार्यकारी प्रमुख बनाया पटरी पर दौड़ी 'मौत' की ट्रेन: एक का सिर धड़ से मिला अलग, तो दूसरे की नग्न अवस्था में टुकड़ों में मिली लाश, पढ़िए ट्रैक पर मौत की खौफनाक कहानी किससे जुड़े हैं गुना हत्याकांड के तार ? BJP नेताओं के साथ आरोपियों की तस्वीरें वायरल, MLA जयवर्धन ने कहा- अपराधियों और बीजेपी नेताओं की निकाली जाए कॉल... आत्मानंद स्कूल के इन छात्रों ने मेरिट लिस्ट में बनाई जगह कथा स्थल में नारियल वितरण के दौरान मची भगदड़, 16 महिलाएं घायल, इधर 576 दिन से नर्मदा परिक्रमा कर रहे संत समर्थ सदगुरु की बगड़ी तबीयत भगवान गौतम बुद्ध के 12 अनमोल वचन शरीर के इन हिस्सों पर है अगर तिल, होते हैं बुद्धिमान और काम में सफलता करते हैं हासिल थाने में शिकायत करने पर मर्डर: अहाता संचालक की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या करने का VIDEO वायरल, 2 आरोपी गिरफ्तार कर भेजे गए जेल रात को अचानक नींद खुल जाना नहीं है कोई आम बात, आत्माएं देती हैं ये गंभीर संकेत... जान पर भी बन आ सकती है बात

लालू यादव आज भरेंगे बेल बांड, कल जेल से रिहाई… तेजस्‍वी-तेज प्रताप बाग-बाग

रांची। बार काउंसिल आफ इंडिया के आदेश के बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सहित जेल में बंद उन सैकड़ों लोगों को राहत मिली है, जिन्हें अदालत से जमानत मिली चुकी है। कोर्ट में अधिवक्ताओं के जाने पर रोक की वजह से बेल बांड सहित अन्य कागजी कार्यवाही पूरी नहीं हो पा रही है। बुधवार को बार काउंसिल ने उक्त आदेश सभी राज्यों को बार काउंसिल को भेज दिया है।

झारखंड बार काउंसिल को भी उक्त आदेश मिल चुका है। ऐसे में अब लालू प्रसाद यादव की ओर से गुरुवार को बेल बांड भरे जाने की संभावना है। उम्मीद जताई जा रही है कि सारी प्रक्रिया पूरी करने के बाद लालू प्रसाद शुक्रवार को कस्टडी से बाहर आ जाएगे। बार काउंसिल आफ इंडिया ने अपने आदेश में कहा है कि कई राज्यों को बार काउंसिल ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अधिवक्ताओं को अदालती प्रक्रिया में शामिल नहीं होने का आदेश जारी किया है।

ऐसे में वैसे लोगों को परेशानी हो रही है, जिन्हें जमानत मिल गई है और बेल बांड सहित अन्य कागजी कार्यवाही पूरी नहीं होने की वजह से वे अभी भी जेल में ही हैं। बार काउंसिल आफ इंडिया की ओर से कहा गया है कि जमानत मिलने के बाद किसी को भी जेल में रखना उसके अधिकारों का हनन है। ऐसे में जिन्हें जमानत मिल गई है। उन्हें जेल से बाहर निकालने के लिए अधिवक्ता को अदालती प्रक्रिया में शामिल होने से रोका जाना सही नहीं है।

बार काउंसिल ने सभी राज्यों को बार काउंसिल को ऐसे लोगों की जमानत की प्रक्रिया पूरी करने के लिए वकीलों को अदालती कार्यवाही में शामिल होने की अनुमति देने का आदेश दिया है। इस आदेश के बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सहित अन्य सैकड़ों लोगों को राहत मिलेगी और कागजी कार्यवाही पूरी होने के बाद जेल से बाहर आएंगे।

बता दें कि चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को 17 अप्रैल को हाई कोर्ट से जमानत मिल चुकी है। लेकिन झारखंड राज्य बार काउंसिल के वकीलों के अदालती कार्यवाही में शामिल होने पर रोक की वजह से बेल बांड सहित अन्य प्रक्रिया पूरी नहीं की जा सकी है। अब उनके बाहर निकलने का रास्ता साफ हो गया है।