ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

छत्तीसगढ़ में सुधर रही पाजिटिविटी, बढ़ रही रिकवरी दर

रायपुर।  कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत में महाराष्ट्र के बाद छत्तीसगढ़ सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य था। लाकडाउन समेत संक्रमण रोकने के किए गए तमाम उपायाें के बाद राज्य में पाजिटिविटी की दर गिर रही है और रिकवरी रेट बढ़ रही है। राज्य में संक्रमित हुए करीब 81 फीसद लोग कोरोना के खिलाफ जंग जीत चुके हैं।

लाकडाउन लागू होने के तीसरे सप्ताह में पाजिटिविटी की दर करीब 32 फीसद से गिरकर साढ़े 27 फीसद पर आ गई है। सक्रिय मरीजों की संख्या में भी कमी आई है, लेकिन मौतों की बढ़ती संख्या अभी भी चिंतजनक बनी हुई है। बीते सात दिनों से रोजाना औसतन करीब दो सौ से अधिक लोगों की मौत हो रही है। इसी तरह देर से लाकडाउन लगाने वाले जिलों में रोज मिलने वाले संक्रमितों की संख्या अब भी बढ़ी हुई है।

रायपुर, दुर्ग व राजनांदगांव समेत कुछ और जिलों में सुधार

प्रदेश में कोरोना की वजह से सर्वाधिक प्रभावित रहे रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव जिले में स्थिति सुधरी है। रायपुर में प्रतिदिन संक्रमित मिलने वालों की संख्या तीन हजार से घटकर 15 सौ के करीब आ गई है। दुर्ग में भी दो हजार से कम होकर आंकड़ा हजार तक आ गया है।

राजनांदगांव में भी रोज मिलने वाले नए केस की संख्या हजार से कम होकर छह-सात सौ तक आ गया था, लेकिन मंगलवार को फिर से वहां हजार से ज्यादा नए केस मिल गए। बालोद, बेमेतरा, धमतरी, महासमुंद, बलौदबााजार, गरियाबंद और गौरेला-पेड्रा- मरवाही में आंकड़े चढ़-उतर रहे हैं।

बिलासपुर और उससे लगे जिलों में हालात चिंताजनक

प्रदेश की न्यायधानी बिलासपुर और उससे लगे जिलों में हालात चिंताजनक बने हुए हैं। बिलासपुर, रायगढ़ और कोरबा में प्रतिदिन हजार से ज्यादा नए केस आ रहे हैं। बिलासपुर में मौतों की संख्या भी रोज बढ़ रही है। वहां पांच दिन में दो सौ से ज्यादा मौतें हुई हैं जो रायपुर के बाद सबसे ज्यादा है। ऐसी ही स्थिति कोरबा और रायगढ़ की भी है। जाजंगीर-चांपा में भी प्रतिदिन मिलने वाले नए केसों की संख्या छह से आठ सौ के बीच बनी हुई है।

सरगुजा के ज्यादातर जिलों में संक्रमण का असर

सरगुजा संभाग के अधिकांश जिलों में अभी संक्रमण का असर बना हुआ है। सरगुजा में रोज तीन से पांच सौ के बीच नए केस आ रहे हैं। जशपुर में करीब चार सौ नए केस आ रहे हैं। कोरिया और बलरामपुर में प्रतिदिन आने वाले नए केस में कोई विशेष कमी नहीं दिख रही है। दोनों जिलों में लगभग चार सौ नए केस मिल ही रहे हैं।

बस्तर संभाग में कांकेर जिला कोरोना की वजह से सर्वाधिक प्रभावित है। वहां प्रतिदिन करीब पांच सौ नए मरीज मिल रहे हैं। कांकेर के बाद बस्तर जिले में भी नए केस का औसत दो सौ के करीब चल रहा है। कोंडागांव में नए केस का औसत करीब सौ है। बाकी चार जिलों में आंकड़ा सौ से नीचे है।

ये है तारीखवार पाजिटिविटी और रिकवरी दर

दिनांक पाजिटिविटी दर रिकवरी रेट

25 अप्रैल 30.78 79.89

26 अप्रैल 27.80 80.68

27 अप्रैल 27.50 81.40

ये भी जानकारी है जरूरी

21 अप्रैल को सबसे ज्यादा थी 31.72 पाजिटिविटी दर

14 अप्रैल को सबसे कम 74.51 थी रिकवरी रेट

27 अप्रैल को सर्वाधिक 246 लोगों की हुई मौत

17 अप्रैल को थे सबसे ज्यादा 130400 सक्रिय मरीज