ब्रेकिंग
असम में लगातार बारिश से बाढ़ के हालात जनजीवन बुरी तरह प्रभावित Adani ग्रुप खरीदेगा अंबुजा सीमेंट्स और ACC लिमिटेड में Holcim India की हिस्सेदारी, 10.5 अरब डॉलर में हुई डील  सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की मैच्योरिटी से पहले निकासी पर कितना मिलेगा पैसा, RBI ने तय की दर बॉडी में एंट्री नहीं ले पाएगा गंदा कोलेस्ट्रॉल, बस इन टिप्स का रखें ध्यान सोमवार के दिन भाग्य में होगी वृद्धि या आर्थिक रूप से होगा नुकसान, पढ़ें, आज का अपना राशिफल शेयर बाजार में फिर गिरावट का दौर जारी मुख्यमंत्री चौहान संबल योजना के नये स्वरूप संबल 2.0 के पोर्टल का करेंगे शुभारंभ राहुल गांधी ने ऐसे कोई संकेत नहीं दिए कि वो पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ेंगे कांग्रेस चिंतन शिविर: राजस्थान से रायपुर लौटे CM बघेल, एयरपोर्ट पर कांग्रेसियों ने मिठाई खिलाकर किया स्वागत बैंक में पैसा जमा करने व निकालने के संबंध में लाया गया नया नियम, 26 मई से होगा प्रभावी

मध्य प्रदेश बोर्ड 9वीं और 11वीं का परीक्षा परिणाम 15 मई को हो सकता है जारी, पढ़ें अपडेट

MP Board 9th 11th Result 2021: मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (Madhya Pradesh Board of Secondary Education, MPBSE ) राज्य के संबद्ध स्कूलों में 9वीं और 11वीं कक्षा के परिणाम 15 मई तक जारी होने की संभावना है। ऐसे में परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थी लेटेस्ट अपडेट के लिए ऑफिशियल वेबसाइट पर नजर बनाए रखें। वहीं इस बार राज्य में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के कारण परीक्षा परिणाम देरी से जारी किया जा रहा है। दरअसल इस बार अप्रैल की शुरुआती सप्ताह में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के चलते देश समेत राज्य में तेजी से मामले बढ़े थे, जिसके कारण मध्य प्रदेश बोर्ड ने 9वीं और 11वीं की परीक्षाओं को कैंसिल करने का फैसला किया था।

वहीं स्टूडेंट्स को आंतरिक मूल्यांकन में उनके प्रदर्शन के आधार पर रिजल्ट जारी किया जाएगा। बोर्ड आंतरिक मूल्यों की गणना 5 विषयों के आधार पर जारी किया जाएगा। इसके अलावा अगर छात्र 6 में से 1 विषय में फेल है (33% अंक प्राप्त नहीं हुए हैं) तो उसे भी उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा। वहीं इसके अलावा छात्रा 1 से अधिक विषयों में फेल हो रही है, तो उसे ग्रेस मार्क्स से प्रमोट कर दिया जाएगा। किया जा सकता है। छात्रों को 1 या अधिक विषय में 10 ग्रेस अंक तक प्रदान किए जा सकते हैं। यदि कोई छात्र 2 या अधिक विषयों में ग्रेस मार्क्स के बाद भी फेल हो जाता है, तो उसे उक्त विषय में परीक्षा के लिए उपस्थित होने का एक और अवसर दिया जाएगा।इसके साथ ही अगर कोई छात्र नवंबर या फरवरी परीक्षा के लिए उपस्थित नहीं हुआ है, तो उसे परीक्षा के लिए एक और अवसर दिया जाएगा।