ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

पांच माह का ही बच्चा था उसके लिए भोपाल क्यों आएं, आप ही कर दो अंतिम संस्कार

भोपाल। कोरोना संक्रमण काल में मानवता तार-तार होते हुए नजर आ रही है। ऐसा इसलिए कि हमीदिया अस्पताल में भोपाल संभाग के सभी जिलों से कोरोना संक्रमित मरीज अपने परिजनों का इलाज कराने आ रहे है। इसमें पांच माह के मासूम से लेकर 80 साल के बुजुर्ग भी शामिल हैं। हैरत तो इस बात की है कि जब इन इलाजरत मरीजों की मौत हो रही है तो अपने ही अपनों को पहचानने तक से मना कर रहे हैं। इतना ही नहीं जो पहचानते हैं वे भी बेगाने हो रहे हैं। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया है। ग्राम पथवोड़ा शाजापुर से भोपाल में रमेश प्रजापति अपने पोते और बेटे का इलाज कराने भोपाल आए थे। बेटा राहुल प्रजापति संक्रमण को हराकर ठीक हो गया, लेकिन पोते की हालात गंभीर थी। विगत 23 अप्रैल को बच्चे की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हो गई। इसकी सूचना जब आयुष के दादा रमेश प्रजापति को दी गई तो उन्होंने बड़े ही रूंधे कंठ से जवाब दिया कि पांच महीने का ही था आयुष, आप ही उसका अंतिम संस्कार करवा दो। इसके लिए हम शाजापुर से भोपाल क्यों आएं।

प्रशासन आठ दिन बाद भी नहीं ले पाया निर्णय

नियमों के अनुसार जिला प्रशासन को हमीदिया में होने वाली मौत के बाद जिन लोगों के परिजन शव लेने नहीं आते हैं उन्हें कोविड प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया जाना होता है। इसके लिए जिला प्रशासन स्तर पर निर्णय होता है लेकिन पिछले आठ दिनों से हमीदिया में दो शव अंतिम संस्कार का इंतजार कर रहे हैं लेकिन अब तक इनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया। इधर, जानकारों का कहना है कि कोरोना संक्रमित मरीजों का शव तीन दिन में खराब होने लगता है लेकिन शहर में दो शव आठ दिनों से रखे हुए हैं और अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। लिहाजा बीएमओ ने हाल ही में सीएमएचओ को पत्र लिखकर इस बात की सूचना दी है कि इनका अंतिम संस्कार किया जाना अब अत्यावश्यक हो गया है।