ब्रेकिंग
विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... Selecting the right Virtual Info Room Supplier रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... Making a Cryptocurrency Beginning अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद

एयरलिफ्ट करने पर 70 घंटे पहले मिल रही है राजधानीवासियों को संजीवनी

भोपाल। ऑक्‍सीजन संकट को दूर करने और लोगों तक जल्‍द से जल्‍द संजीवनी पहुंचाने को लेकर जिला प्रशासन की मुहीम रंग लाई है। ऑक्‍सीजन के खाली टैंकरों को एयर लिफ्ट कर पहुंचाने से एक तरफ का परिवहन में लगने काफी समय बच रहा है। इससे जल्‍द से जल्‍द ऑक्‍सीजन मरीजों तक पहुंचाने में काफी मदद मिल रही है। यहीं कारण है कि प्रशासन ने अब तक 13 ऑक्‍सीन के टैंकरों को एयरलिफ्ट कर परिवहन में लगने वाले 38 दिन का समय बचा लिया है। याने करीब 910 घंटे का समय बचा लिया है। अगर सडक मार्ग से ऑक्‍सीजन के टैंकर आते-जाते तो करीब 38 दिन का समय इन्‍हें आने-जाने में लग जाता। अपर कलेक्‍टर दिलीप यादव ने बताया कि एक टैंकर को एयर लिफ्ट कर ऑक्‍सीजन प्‍लांट तक पहुंचाने में 30 से 35 घंटे का समय बचाया जा रहा है। वहीं एयरलिफ्ट कर दो टैंकरों को एक साथ भेजा जा रहा है। इस तरह दो टैंकरों में लगने वाले 65 से 70 घंटे का समय बचाया जा रहा है। इससे भोपाल की जनता से जल्‍द से जल्‍द ऑक्‍सीजन की आपूर्ति हो पा रही है। शुक्रवार की सुबह भी दो ऑक्‍सीजन टैंकरों को एयर लिफ्ट कर रांची भेजा गया है। वहीं अब तक रांची, सूरत, जामनगर, बोकारो ऑक्‍सीजन प्‍लांट तक 13 टैंकरों को एयर लिफ्ट कर भेजा गया है। उन्‍होंने बताया कि एयरक्राफ्ट के जरिए खाली ऑक्‍सीजन टैंकर दो घंटे के अंदर ऑक्‍सीजन प्‍लांट तक पहुंच जाते है, जबकि सडक मार्ग या रेल मार्ग से जाने में उन्‍हें कम से कम 72 घंटे का समय लगता है। इधर, सेना के एयरक्राफ्ट सी-17 के द्वारा ऑक्‍सीजन के टैंकरों को एयरलिफ्ट किया जा रहा है।

वर्जन

हम समय पर लोगों तक ऑक्‍सीजन पहुंचाने की हर संभव कोशिश कर रहे है। एयरलिफ्ट कर काफी समय बचाया जा रहा है। इससे जल्‍द से जल्‍द ऑक्‍सीजन पहुंचने में मदद मिल रही है। सभी के सहयोग और आपसी सामांजस्‍य से ऑक्‍सीजन की आपूर्ति की जा रही है।

अविनाश लवानिया, कलेक्‍टर, भोपाल