वरिष्ठ नागरिकों को भीड़, अव्यवस्था और कोविड संक्रमण से बचाने की चिंता

रायपुर।  देश में 18+ आयु वर्ग को एक मई से टीका लगाने का वरिष्‍ठ नागरिकों ने स्‍वागत किया है। इसके लिए पीएम और सीएम का शुक्रिया भी अदा किया है। साथ ही होने वाली भीड़ से खुद को बचाने की गुहार भी लगाई है। युवाओं की भीड़ की वजह से वरिष्‍ठ नागरिकों को दिक्‍कतों से गुजरना पड़ेगा, इसलिए अलग से व्‍यवस्‍था करने की मांग की गई है।

वरिष्ठ नागरिक परिसंघ के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र नामदेव का कहना है कि 18+ आयु वर्ग के लोगों के वैक्‍सीनेशन के दौरान होने वाली भीड़ और अव्यवस्था से वरिष्ठ नागरिक चिंतित हैं। इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को ट्वीट कर बुजुर्गों के वैक्‍सीनेशन के लिए तत्काल सबसे अलग व्यवस्था करने की मांग की है।

उन्होंने बताया कि 18+ आयु वर्ग और 45+ आयु वर्ग के कोविड वैक्‍सीनेशन में सभी जगह भीड़ उमड़ रही है। बार-बार समझाने के बाद भी लोग शारीरिक दूरी का पालन नहीं कर रहे हैं और मास्क का भी सही तरीके से उपयोग नहीं करते। ऐसी परिस्थिति में इनके बीच वरिष्ठ नागरिकों का भी वैक्‍सीनेशन करना खतरनाक साबित होगा

संक्रमण से उनका बचाव करना बहुत मुश्किल होगा। उन्होंने इस खतरे से वरिष्ठ नागरिकों को बचाने के लिए अलग से वैक्‍सीनेशन की व्यवस्था तत्काल करने की जरूरत पर बल दिया है। उन्होंने बताया है कि 60+आयु वर्ग के ज्यादातर वरिष्ठ नागरिकों को प्रथम डोज लग चुके हैं। दूसरे डोज के लिए अब वर‍िष्‍ठ नागरिक सेंटरों पर जा रहे हैं। वे अभी भी भीड़ और अव्यवस्था से परेशान हैं।

अनेक लोग बीमार और लाचार होने के कारण भीड़ की जानकारी सुनकर निर्धारित समय सीमा चार या छह सप्ताह के पूर्व अंतिम दिनों में वैक्‍सीनेशन के लिए जाने की तैयारी में हैं, पर अब 18+आयु वर्ग के साथ वैक्‍सीनेशन के लिए जाने से घबरा रहे हैं। वरिष्‍ठ नागरिक डर रहे हैं कि इतने दिनों तक कोविड वायरस के संक्रमण से बचने के बाद कहीं संक्रमित न हो जाएं।