ब्रेकिंग
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जा सकती है

सीलबंद अस्पताल को फिर मिली इलाज की मान्यता

रायपुर। राजधानी हास्पिटल अग्निकांड में सात कोरोना मरीजों की मौत के मामले में घोर लापरवाही बरती जा रही है। घटना के 12 दिन बाद भी न तो पुलिस और न ही अन्य तीन जांच एजेंसियों की जांच रिपोर्ट सामने आई है। इसी बीच खबर आ गई कि अग्निकांड के बाद सीलबंद किए गए अस्पताल को फिर से स्वास्थ्य विभाग ने इलाज की मान्यता दे दी है। इससे सवाल उठने लगे है कि अभी तक अग्निकांड की जांच पूरी भी नहीं हुई और अस्पताल संचालकों पर मेहरबान जिम्मेदारों ने कोरोना मरीजों के इलाज की मान्यता दे दी

स्वास्थ्य विभाग को छोड़कर पुलिस, फायर सेफ्टी विभाग, विद्युत और एफएसएल की टीम अस्पताल का निरीक्षण कर जांच पूरी कर लेने का दावा कर रही है, लेकिन किसी की जांच रिपोर्ट तैयार नहीं हो पाई है। राजधानी अस्पताल अग्निकांड की जांच के नाम पर अब तक केवल खानापूर्ति ही की गई है। फायर सेफ्टी, विद्युत, एफएसएल और पुलिस ने अस्पताल जाकर जांच की लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम 12 दिन बाद भी वहां झांकने तक नहीं गई।

अग्निकांड में मृत सात मरीजों के स्वजन जिम्मेदार अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की आस लगाए बैठे हैं, लेकिन प्रशासन अपनी मर्जी से सुस्त रफ्तार में जांच कर रही है। पुलिस तक को अस्पताल के संचालकों के नाम लिखित में नहीं दिए गए। इसकी वजह से संचालकों का बयान तक दर्ज नहीं किया जा सका है।

बता दें कि इस अस्‍पताल में कोविड मरीज भर्ती थे। आग की वजह से जलने और दम घुटने से सात मरीजों की मौत हुई थी। जिला प्रशासन ने सख्‍त कार्रवाई करने का दावा किया था, लेकिन कार्रवाई के नाम पर अब तक जांच ही चल रही है।