ब्रेकिंग
बिहार में सभी पुराने सरकारी भवनों का होगा फायर सेफ्टी आडिट सितंबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 टी20 मैच खेलेगा भारत 8GB रैम और 512GB स्टोरेज के साथ आया नया फोल्डेबल स्मार्टफोन दाम बढ़ाने के बजाय पैकेट का वजन घटा रहीं कंपनियां नेपाल बिना हमारे राम अधूरे : पीएम मोदी जून में कर्ज और हो सकता है महंगा, RBI रेपो रेट में फिर से बढ़ोतरी का ले सकता है फैसला कई दिनों की बिकवाली के बाद आज बाजार में रही हरियाली, सेंसेक्स 180 अंक चढ़कर बंद, निफ्टी 15800 के करीब क्लोज खुशखबरी, क‍िसानों के खाते में इस द‍िन आएंगे 2000 रुपये! चेक कर लें अपना नाम महिला टी20 चैलेंज के लिए हरमनप्रीत, मंघाना और दीप्ति को मिली कप्तानी ‘कप्तान आपका चपरासी नहीं’, इंग्लैंड के नए कोच ब्रेंडन मैकुलम के कोचिंग स्टाइल पर जमकर बरसे पूर्व पाक कप्तान

बिलासपुर रेलवे स्टेशन से 94.48 टन आक्सीजन लेकर गुजरी ट्रेन

बिलासपुर।  ट्रेन से अलग-अलग हिस्सों में आक्सीजन आपूर्ति की जा रही है। इसी के तहत बिलासपुर से दो आक्सीजन एक्सप्रेस गुजरी। एक में तीन टैंकर में 47.37 टन और दूसरी में 47.11 टन आक्सीजन थी। इसके जरिए जबलपुर, सागर व फरीदाबाद के संक्रमितों को आक्सीजन मिलेगी।

कोरोना महामारी के दौर में देश के अलग-अलग हिस्सों में जीवन रक्षक आक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए रेलवे आक्सीजन एक्सप्रेस चला रही है। इस ट्रेन के परिचालन को लेकर पूरी सतर्कता भी बरती जा रही है। ट्रेनें जहां-जहां से गुजरती हैं उन स्टेशनों को इसकी सूचना दी जा रही है ताकि परिचालन के दौरान किसी तरह बाधा न आए।

बिलासपुर रेलवे स्टेशन से भी लगातार आक्सीजन एक्सप्रेस गुजर रही है। गुरुवार की रात 21.25 बजे दक्षिण पूर्व रेलवे के बोकारो से रवाना हुई आक्सीजन एक्सप्रेस झारसुगुड़ा से होते हुए शुक्रवार की सुबह पांच बजे बिलासपुर पहुंची और पेंड्रारोड, अनूपपुर होते हुए दोपहर 14.15 बजे न्यू कटनी जंक्शन पहुंची।

यहां से ट्रेन जबलपुर व सागर के लिए रवाना हुई। झारसुगुड़ा से न्यू कटनी जंक्शन स्टेशन तक 500 किमी से भी अधिक का सफर 9.15 घंटे में तय की। इस आक्सीजन एक्सप्रेस में 47.37 टन जीवनदायक लिक्विड मेडिकल आक्सीजन चार एमबीडब्ल्यूटी वैगन में रो-रो सेवा के अनुसार लोड की गई थी। इसी तरह दोपहर 12.10 बजे राउरकेला से फरीदाबाद के लिए एक और ऑक्सीजन एक्सप्रेस रवाना हुई।

यह भी बिलासपुर रेलवे स्टेशन होते हुए 23.30 बजे तक कटनी पहुंची। इस ट्रेन में तीन टैंकर थे। उनमें 47.11 टन जीवनदायक लिक्विड मेडिकल आक्सीजन थी। अभी तक रेलवे 600 टन से अधिक मेडिकल आक्सीजन का सफलता पूर्वक परिवहन कर चुकी है।