Jain
ब्रेकिंग
महू में दो गुटों में विवाद के बाद बम फोड़ा; 2 की मौत, 15 से ज्यादा घायल रोटी भी बदल सकती है किस्मत डीजीपी का सिल्वर मेडल भी आज लखनऊ में देंगे एडीजी जोन,खुशी की लहर देर शाम आई सभी के पास प्रशासन फोन कॉल, 30 स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों किया गया था आमंत्रित आजादी के अमृत महोत्सव के लिए रंग बिरंगी रोशनियों से सजा ग्वालियर दुगरी फेस-1 में हुआ हमला,अदालत में गवाही न देने के लिए हमलावर बना रहे थे दबाव भाजयुमो के मंत्री ने कार के सन रूफ से निकलकर झंडे की फोटो की थी पोस्ट 100 फूट ऊंचा लहरा रहा तिरंगा,लाइटों से जगमगाया शहर, दुल्हन की तरह सजी सड़कें रैली निकालकर लगाए भारत माता की जयकारे, बच्चों और ग्रामीणों ने किया समरसता भोज राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने किया ध्वजारोहण

यूक्रेन ने अमे‎रिका से ‎मिले रॉकेट ‎सिस्टम के हमले से रूस को दी गहरी चोट पहुंचाई

कीव। यूक्रेन ने अमेरिका से मिले ‎हिमारस रॉकेट सिस्टम के पहले ही हमले में रूसी सेना को तगड़ी चोट पहुंचाई है। पूर्वी यूक्रेन में इस रॉकेट सिस्टम की चपेट में आने से रूसी सेना के 56वें कर्नल समेत 40 सैनिकों की मौत का दावा किया गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार यूक्रेनी सेना ने ‎हिमारस :रॉकेट सिस्टम के जरिए पूर्वी यूक्रेन के एक अज्ञात इलाके में रूसी सैन्य टुकड़ी को निशाना बनाया था। इस हमले में रूसी सेना के 49 वर्षीय पैराट्रूपर कमांडर कर्नल आंद्रेई वासिलीव की मौत हो गई। वे रूस के 56वें कर्नल हैं, जिनकी यूक्रेन के साथ जारी जंग में मौत हुई है। अमेरिका के इसी रॉकेट सिस्टम के एक अन्य हमले में यूक्रेन के खारकीव में रूसी सेना के 40 सैनिकों के मारे जाने की भी खबर है। कर्नल वासिलीव कथित तौर पर रूसी सेना के एयरबॉर्न असाल्ट ट्रूप्स के अडवांस कमांड पोस्ट पर तैनात थे। हालां‎कि  उनके लोकेशन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। वह रियाज़ान में स्थित 106 वें गार्ड्स एयरबोर्न डिवीजन के 137 वें गार्ड्स एयरबोर्न रेजिमेंट के कमांडर थे। उन्हें युद्ध में अद्वितीय शौर्य और बहादुरी दिखाने के कारण रूसी ऑर्डर ऑफ करेज से सम्मानित किया जा चुका है। कुछ दिन पहले ही रूसी सेना के 55वें कर्नल 51 वर्षीय लेफ्टिनेंट-कर्नल सर्गेई गुंडोरोव की एक मिसाइल हमले में मौत हुई थी। उनका हेलीकॉप्टर डोनबास में वोल्नोवाखा में एक मैन पोर्टेबल एयर डिफेंस सिस्टम का शिकार हो गया था।
M142 हाई मोबिलिटी आर्टिलरी रॉकेट सिस्टम (HIMARS) एक लाइट मल्टीपल रॉकेट लॉन्चर है जिसे 1990 के दशक के अंत में अमेरिकी सेना के लिए विकसित किया गया था। इस रॉकेट सिस्टम को अमेरिकी सेना के M1140 ट्रक के ऊपर लगाया गया था। M142 में छह गाइडेड मल्टीपल लॉन्च रॉकेट सिस्टम रॉकेट, या दो प्रिसिजन स्ट्राइक मिसाइल या एक जमीन से जमीन पर मार करने वाली आर्मी टेक्टिकल मिसाइल लगी होती है। M142 HIMARS रॉकेट सिस्टम अमेरिकी सेना में 2010 से सर्विस में शामिल है। इस रॉकेट सिस्टम ने अफगानिस्तान युद्ध, सीरियाई गृहयुद्ध, इराकी गृहयुद्ध और यूक्रेन पर रूस के आक्रमण में अपनी ताकत का लोहा मनवाया है। इस रॉकेट सिस्टम के एक यूनिट की कीमत 5.1 मिलियन डॉलर है। अभी तक इसके 540 यूनिट का निर्माण किया जा चुका है। इस रॉकेट सिस्टम की लंबाई 7 मीटर, चौड़ाई 2.4 मीटर और ऊंचाई 3.2 मीटर है। इसे ऑपरेट करने के लिए तीन लोगों के क्रू की जरूरत पड़ती है।