ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

ग्वालियर में 1096 संक्रमित, 44 की मौत, 1012 मरीज हुए डिस्चार्ज

ग्वालियर। शहर में सोमवार को 4153 लोगों की कोरोना जांच में 1096 की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। वहीं 44 कोरोना पाजिटिव मरीजों की मौत हुई है। मरने वालों में आठ लोग बाहरी जिलों के हैं, जबकि 36 ग्वालियर के हैं। सोमवार को 1012 लोग स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज भी किए गए।

कोरोना महामारी के कारण अब तक जिले में 42 हजार 565 लोग संक्रमित हो चुके हैं, इनमें से 33 हजार 414 लोगों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज भी किया जा चुका है। अभी भी 8758 लोग शहर में कोरोना का इलाज ले रहे हैं। जिले में अब तक 4 लाख 46 हजार 705 लोगों ने कोविड जांच कराई है। इसके अलावा शहर में अभी 439 कंटेनमेंट जोन भी एक्टिव हैं।

जाने-माने साहित्यकार प्रो प्रकाश दीक्षित नहीं रहेः ग्वालियर के जाने-माने साहित्यकार, कवि, उपन्यासकार प्रो. प्रकाश दीक्षित का सोमवार को कोरोना संक्रमण के कारण निधन हो गया। वे 84 वर्ष के थे। यहां ललितपुर कॉलोनी में उनका निवास है। उनके निधन की खबर से साहित्यकार जगत में शोक की लहर है। प्रो. प्रकाश दीक्षित फक्कड़ लेखक व कवियों की परंपरा के संवाहक थे। प्रारंभ में वे विभिन्न समाचार पत्रों में सलाहकार संपादक रहे। प्रो. दीक्षित को सैकड़ों पुरुस्कार मिले। उनकी आधी खिड़की कृति के लिए उन्हें राज्यस्तरीय सम्मान मिला। उन्होंने लगभग 30 पुस्तकें, हस्तलेखन, व्यंग, उपन्यास आदि साहित्य की विभिन्न् विधाओं पर लिखीं, जो बड़े- बड़े प्रकाशकों द्वारा प्रकाशित की गईं। उन्होंने अंतराष्ट्रीय व राष्ट्रीय विषयों पर लगभग 35 पुस्तकों का जो हिंदी में उपलब्ध नहीं थी, उनका अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया। विज्ञान विषयों पर उन्होंने कई पुस्तकों का अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया। कुछ वर्ष पहले मध्यप्रदेश प्रगतिशील लेखक संघ ने प्रो दीक्षित के सम्मान में दो दिन का कार्यक्रम कला वीथिका में आयोजित किया था।