ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

हाई कोर्ट ने बीडीएस की आफलाइन परीक्षा पर भी लगाई रोक

बिलासपुर। रायपुर की आयुष यूनिवर्सिटी द्वारा पांच मई से शुरू होने वाली आफलाइन परीक्षा पर हाई कोर्ट ने रोक लगा दी है। साथ ही इस मामले में यूनिवर्सिटी, राज्य शासन व डेंटल काउंसिल आफ इंडिया को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

आयुष विश्वविद्यालय ने बेचलर आफ डेंटल सर्जरी की परीक्षाएं आफलाइन लेने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही यूनिवर्सिटी ने परीक्षा कार्यक्रम की घोषणा भी कर दी थी। बैचलर आफ डेंटल सर्जन की परीक्षाएं पांच से 13 मई के बीच होनी थी। कोरोना महामारी के बीच आफ लाइन परीक्षाएं आयोजित करने के इस निर्णय को चुनौती देते हुए विद्यार्थियों ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की है।

इसमें कहा गया है कि प्रदेश के सभी जिलों में लाकडाउन है। वहीं लाकडाउन के बीच यूनिवर्सिटी परीक्षाएं ली जा रही हैं। याचिका में बताया गया है कि कई परीक्षार्थी कोरोना संक्रमित हैं और होम आइसोलेशन में हैं। इस स्थिति में परीक्षा आयोजित करना विद्यार्थियों के साथ हितकर नहीं है। याचिकाकर्ताओं ने अपनी याचिका में कहा कि इस भीषण कोरोना काल में आफलाइन परीक्षा आयोजित करना गलत है।

यूनिवर्सिटी के इस निर्णय से कई छात्र-छात्राओं पर संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाएगा। याचिका में हाई कोर्ट से यूनिवर्सिटी के इस निर्णय पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का आग्रह किया गया। जस्टिस पी सैम कोशी की सिंगल बेंच ने इस प्रकरण की सुनवाई हुई। कोर्ट ने याचिका को स्वीकार करते हुए बीडीएस की परीक्षाओं पर रोक लगा दी है। साथ ही इस मामले में राज्य शासन, यूनिवर्सिटी सहित अन्य पक्षकारों को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में जवाब प्रस्तुत करने कहा है।