ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

शिवपुरी कोरोना का बड़ा हॉटस्पॉट बना, 13 गुना बढ़ गया संक्रमण

शिवपुरी। कोरोना महामारी की दूसरी लहर छोटे शहरों को ज्यादा भयानक तरीके से अपनी चपेट में ले रही है। मध्यप्रदेश में इस समय शिवपुरी कोरोना का हॉटस्पॉट बना चुका है। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर जैसे बड़े शहरों के मुकाबले यहां पर संक्रमण की दर बहुत अधिक है। महज सवा दो लाख की आबादी वाले इस शहर में संक्रमण पिछले 20 दिन में 30 से 35 फीसद बना हुआ है। कमजोर प्रशासनिक निर्णय और आमजन की लापरवाही से इंदौर और भोपाल के रास्ते शहर में संक्रमण आसानी से घुस गया।

मार्च में जहां संक्रमण दर महज 2.75 प्रतिशत थी, वह 15 अप्रैल के बाद बढ़कर 36 प्रतिशत पर पहुंच गई। इस दौरान जिले में 170 से अधिक लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत भी हो गई। जिले में जब दूसरी लहर आने के संकते दे रही थी तब पर्याप्त सख्ती नहीं बरती गई। टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट के तीनों मोर्चों पर शासन और प्रशासन की नाकामी रही कि संक्रमण अब निरंकुश हो गया है।

15 अप्रैल से बिगड़े हालात, बाहर से आने वालों ने फैलाया संक्रमण

मार्च के महीने तक जिले में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में थी। होली के समय पर बाहर पढ़ने और नौकरी करने वाले बड़ी संख्या में वापस लौटे। इस समय महाराष्ट्र और इंदौर व भोपाल में दूसरी लहर आने लगी थी। लोगों ने बाहर से आने के बाद जानकारी छिपाई और एक साथ कई परिवार संक्रमित हुए। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन लगाने का फैसला प्रशासन के हाथ में सौंपा। अप्रैल में हर दिन 20 से अधिक संक्रमित के मिलने के बाद भी शुरुआत में लॉकडाउन नहीं किया गया। 10 अप्रैल के बाद शहर में लॉकडाउन लगाया, लेकिन तब तक संक्रमण फैल गया। 15 अप्रैल से हर दिन एक सैकड़ा से अधिक मरीज मिले। अब हर दिन 250 से 400 मरीज मिल रहे हैं

शहरी आबादी को ज्यादा खतरा, गांव में भी कोरोना की घुसपैठ

अभी तक जो कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं उनमें 80 फीसद संक्रमित शहरी क्षेत्र में ही मिल रहे हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमितों की संख्या करीब 20 से 22 फीसद है। शहरी क्षेत्र की आबादी करीब सवा दो लाख है जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 17 लाख से ज्यादा की जनसंख्या है। ऐसे में शहरी क्षेत्र में कम जनसंख्या के बीच अधिक संक्रमण फैला हुआ है। ग्रामीण क्षेत्रों में अब कोरोना से मौत भी हो रही हैं। सिर्फ करैरा में ही 15 से ज्यादा लोगों की मौत संक्रमण से हो चुकी है।

5 मई तक कोरोना की स्थिति

कुल सैंपल: 101195

संक्रमित: 9696

स्वस्थ हुए: 7380

औसत संक्रमण दर: 9.16