ब्रेकिंग
Discovering Academic Term Papers जन-जन को जोड़ें "महाकाल लोक" के लोकार्पण समारोह से : मुख्यमंत्री चौहान Women Business Idea- घर बैठे कम लागत में महिलायें शुरू कर सकती हैं यह बिज़नेस राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल, अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र का भी किया शुभारंभ विराट कोहली नहीं खेलेंगे अगला मुकाबला मनोरंजन कालिया बोले- करेंगे मानहानि का केस,  पूर्व मेयर राठौर  ने कहा दोनों 'झूठ दिआं पंडां कहा-बेटे का नाम आने के बावजूद टेनी ने नहीं दिया मंत्री पद से इस्तीफा करनाल में बिल बनाने की एवज में मांगे थे 15 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ दबोचा स्कूल में भिड़ीं 3 शिक्षिकाएं, BSA ने तीनों को किया निलंबित दिल्ली से यूपी तक होती रही चेकिंग, औरैया में पकड़ा गया, हत्या का आरोप

गंगाजल को हाथ में लेकर झूठी कसम खाने वाली कांग्रेस की राज्य सरकार- पूर्व जिला पंचायत सभापति अश्वनी शर्मा

भाटापारा।भाटापारा पूर्व जिला पंचायत सभापति अश्वनी शर्मा ने आज मुख्यमंत्री भुपेश बघेल पर तीखा हमला करते हुए कांग्रेस की राज्य सरकार को लबरा सरकार बताया। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के लिए कांग्रेस पार्टी और उसके नेता गंगाजल को हाथ में लेकर कसम खाए थे,जिन वादों के साथ राज्य में कांग्रेस की सरकार आई, कांग्रेस ने उनमें से एक भी वादों को पूरा नहीं किया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान कहा था 2 साल का बोनस देंगे अगर हमारी सरकार आती है। सरकार आए आज 22 महीना हो गया पर राहुल गांधी और उनकी सरकार ने आज तक बोनस नहीं दिया। भूपेश सरकार की कथनी और करनी का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भाटापारा में युवक कांग्रेस शराब दुकान के बाहर ओवर रेट के लिए धरना प्रदर्शन करती है। बेरोजगारों को 25 सौ भत्ता देने की सरकार ने बात कही थी, आज तक एक भी बेरोजगार को 01 रुपिया भी नहीं दिया।
आज के इस धरने के माध्यम से हम मांग करते है कि धान खरीदी 1 नवम्बर से प्रारंभ की जाए एवं प्रति एकड़ 20 क्विंटल खरीदी की जाए।
अश्वनी शर्मा ने राज्य सरकार से कहा कि केंद्र की हमारी नरेंद मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ से 60 लाख मेट्रिक टन चावल खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया है।60 लाख मेट्रिक टन चावल के लिए 90 लाख मेट्रिक टन धान की आवश्यकता होगी।शर्मा ने कहा कि पिछले वर्ष राज्य शासन ने 83 लाख मेट्रिक टन धान खरीदा था,पिछले वर्ष की तुलना में केंद्र सरकार चावल ज्यादा मात्रा में राज्य सरकार से खरीद रही है,इसलिए राज्य सरकार को किसानों से 15 क्विंटल प्रति एकड़ में खरीदने के स्थान पर 20 क्विंटल प्रति एकड़ खरीदना चाहिए।
धान ख़रीदी पिछले वर्ष 01 दिसम्बर से की गई थी जिस कारण किसानों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था।इस बार किसानों के हितों को ध्यान में रख कर राज्य सरकार धान खरीदी 01 दिसम्बर के स्थान पर 01 नवम्बर से एवं प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान खरीदने की व्यवस्था करे।