ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट

वाराणसी: वाराणसी का मौसम आज काफी साफ और सामान्य है। सुबह साढ़े 5 बजे ही सूरज पूरी तरह से खिल चुके थे। सुबह की तीखी धूप देखकर लग रहा कि दोपहर की गर्मी और उमस काफी परेशान करने वाली है। हवा 6 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से बह रही है। सुबह का तापमान 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा की नमी 99% है।वहीं, शुक्रवार के बाद देर रात 0.3 मिलीमीटर की बरसात वाराणसी में कहीं-कहीं हुई। वाराणसी का अधिकतम तापमान भी 33.6 डिग्री और न्यूनतम तापमान 24.5 डिग्री सेल्सियस तक गया। न्यूनतम तापमान नॉर्मल से दो डिग्री नीचे रहा। वहीं बीते 24 घंटे में वाराणसी में 1 मिलीमीटर की बरसात दर्ज की गई।मौसम विज्ञान विभाग का अनुमान है, “वाराणसी में आज से 16 अगस्त तक ठीक-ठाक बरसात हो सकती है। 13 और 14 अगस्त को तेज बारिश होने की संभावना है।”कहीं 30 साल में सबसे कम बारिश का रिकॉर्ड न बन जाएIMD द्वारा जारी क्लाइमेटिक रिकॉर्ड को देखें तो वाराणसी इस बार अगस्त में रिकॉर्ड बनाने जा रहा है। बीते 30 साल में सबसे कम बारिश का रिकॉर्ड बनेगा। औसतन 359.5 मिलीमीटर पानी बरसना था, मगर 13 दिन हो गए और बरसात का कुछ अता-पता नहीं। ठीक से 50 मिमी बारिश भी काशीवासियों को नहीं नसीब है।बारिश के अच्छे संकेत कमBHU के मौसम वैज्ञानिक, प्रोफेसर मनोज कुमार श्रीवास्तव ने कहा, “वाराणसी में बारिश के अच्छे संकेत नहीं दिख रहे हैं। मानसूनी हवा और लोकल इफेक्ट मिलकर बारिश करा सकते हैं। मगर, इसका दायरा सीमित होगा। यानी कि लंका-BHU में बारिश हो और सिगरा में सूखा ही रह जाए।”दिखने लगे गंगा के घाटकेंद्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, आज सुबह 8 बजे तक गंगा का जलस्तर 63.27 मीटर पर आ गया है। अब गंगा घाटों के आपसी कनेक्शन दिखने लगे हैं। हालांकि, गंगा में बोटिंग दूर-दूर तक नहीं दिख रही। सभी पर प्रतिबंध अभी भी जारी है।