ब्रेकिंग
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने 21 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों को दी स्वीकृति न्यू विस्टा लिमिटेड रिसदा ने धूमधाम से मनाया 77 वा स्वतंत्रता दिवस समारोह शिवरतन शर्मा ने बघेल सरकार पर साधा निशाना, कहा- किसानों पर थोपी जा रही अमानक वर्मी खादभारतीय जनता पार्टी ने भाटापारा विधानसभा सहित प्रदेश में व्याप्त ... भाटापारा पंचशील नगर में जिला बलौदाबाजार भाटापारा कि साइबर टीम, थाना भाटापारा शहर एवम् आबकारी विभाग बलोदाबजार की संयुक्त कार्यवाही लगभग 100 नग देशी मशा... भाटापारा विधानसभा के वरिष्ठ कांग्रेसी लीडर राधेश्याम शर्मा (फग्गा) ने विधानसभा चुनाव के लिए की दावेदारी पेश नगर में अपनी मिलनसारिता, स्नेह व धार्मिक, ... किसानो के हित में समर्पित सुशील शर्मा भूपेश सरकार की योजनाओ को धरातल पर क्रियान्वयन कराने में अग्रणी भूमिका निभा रहे किसानो के हितार्थ काम कृषि ऊपज मंडी कर रही है-गिरीश देवाँगन प्रदेश में सर्वे कराना भूपेश सरकार का क्रांतिकारी कदम-सुशील शर्मा छत्तीसगढ को देश का शिखर बनाना है – ओम माथुर भाजपा की जंगी आम सभा भेंट मुलाकात कार्यक्रम में जिला या निगम की बड़ी घोषणा की उम्मीद ध्वस्त,जनमानस में निराशा

Nautapa 2021: इस साल नौतपा के जमकर तपने के आसार, जानिए कब पड़ेगी ये भीषण गर्मी

 भोपाल। भले ही इस बार अप्रैल और मई में अपेक्षाकृत गर्मी नहीं पड़ी है, लेकिन मौसम विज्ञानी नौतपा (25 मई से दो जून तक का समय) में भीषण गर्मी पड़ने की संभावना जता रहे हैं। इसका कारण नौतपा के समय मौसम शुष्क बने रहने की संभावना को बताया जा रहा है।

अमूमन गर्मी के सीजन में अप्रैल-मई में ही सर्वाधिक गर्मी पड़ती है। लेकिन, इस बार अप्रैल के बाद मई में भी कई प्रदेशों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने से इस पर असर पड़ा है। मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि इस वर्ष फरवरी से ही पश्चिमी विक्षोभ के आने का सिलसिला लगातार बना हुआ है। कम ऊंचाई पर आ रहे पश्चिमी विक्षोभ से बौछारें पड़ने का दौर जारी रहा।

इसलिए तपेगा नौतपा

मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि अरब सागर में चक्रवाती तूफान ताक्टे उठा है। इसके 16 मई को गुजरात के तट से टकराने के बाद मप्र में कई स्थानों पर बारिश होगी। तूफान का असर 22 मई तक बना रह सकता है। इसके बाद मौसम शुष्क हो जाएगा। इससे अधिकतम तापमान में तेजी से बढ़ोतरी होने के आसार हैं।

इस कारण नौतपा में पड़ती है अधिक गर्मी

अजय शुक्ला ने बताया कि नौतपा के समय दिन बड़े होते हैं। इस वजह से देर तक सूर्य की ऊर्जा पृथ्वी को मिलती है। इस समय देश में सूर्य पृथ्वी के सबसे नजदीक होता है। साथ ही उसकी किरणें सीधी पृथ्वी पर पड़ती हैं। इस वजह से तापमान तेजी से बढ़ता है।

नौतपा में बारिश होने का मानसून पर असर नहीं

कहा जाता है कि नौतपा में बारिश होने पर मानसून कमजोर हो जाता है। मौसम विज्ञानी इससे इत्तेफाक नहीं रखते। अजय शुक्ला का कहना है कि बेहतर मानसून के लिए तापमान का बढ़ा रहना भी एक फैक्टर है, लेकिन सिर्फ नौतपा से उसकी तुलना करना गलत है। वर्ष-2013 और 2020 में नौतपा में अपेक्षाकृत गर्मी नहीं पड़ी थी, लेकिन पूरे मप्र में सामान्य से काफी अधिक बारिश हुई थी।