ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

मध्य प्रदेश के सराफा बाजार को 500 करोड़ रुपये का नुकसान

इंदौर। अबूझ मुहूर्त कहे जाने वाले अक्षय तृतीय में कोरोना महामारी का विघ्न सराफा कारोबार पर भारी पड़ रहा है। मध्य प्रदेश के सराफा कारोबार को लगभग 500 करोड़ रुपये का नुकसान आंका गया है। शहरों से लेकर गांव तक फैले कोरोना संक्रमण के कारण शादी-ब्याह के आयोजन रुकने से सराफा का कारोबार भी रुक गया। सोने-चांदी के गहनों की बिक्री के लिहाज से अक्षय तृतीया और आसपास के दिन साल का सबसे बड़ा कारोबारी सीजन माना जाता है। मध्य प्रदेश के कुल सराफा कारोबार और छोटे-मध्यम ज्वेलर्स के लिए आखातीज दीवाली से भी बड़ा व्यापारिक मौका होता है।

मध्य प्रदेश सोना-चांदी व जवाहरात व्यापारी एसोसिएशन ने आंकड़ा जारी करते हुए कहा है कि सिर्फ प्रदेश के ग्रामीण और छोटे शहरों के कारोबार को ही कम से कम 300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। बड़े शहरों के व्यापार को जोड़ने पर आंकड़ा करीब 500 करोड़ तक पहुंच रहा है। एसोसिएशन के सचिव संतोष सर्राफ के अनुसार अक्षय तृतीया असगंठित ज्वेलर्स यानी परंपरागत बाजारों और सराफा कारोबारियों के लिए बिक्री का सबसे बड़ा मौका है। गांव से लेकर शहरों तक इस मुहूर्त में सबसे ज्यादा शादियां होती है। किसानों के पास भी गेहूं की फसल का पैसा रहता है। ऐसे में गहनों की खरीदी भी जमकर की जाती है। दीवाली पर भी गहनों की बिक्री होती है लेकिन फिर भी बिक्री के लिहाज से दीवाली का सीजन दीवाली के बाद ही माना जाता है।

दीवाली पर मुहूर्त में छोटे गहने-सिक्के खरीदे जाते हैं। उस समय कार्पोरेट ज्वेलर्स का कारोबार ज्यादा होता है। इंदौर सोना-चांदी व्यापारी एसोसिएशन के मंत्री अविनाश शास्त्री के अनुसार पूरे वर्ष में गहनों की बिक्री के लिहाज से अप्रैल और मई के महीने में लगातार व्यापार चलता है और सबसे ज्यादा बिक्री होती है। हर ज्वेलर्स के लिए ये दोनों माह सबसे अहम होते हैं। कोरोना के चलते दोनों ही महीनों की बिक्री खत्म हो गई। आयोजन टलने से लोगों ने पहले से दिए आर्डर भी कैंसिल कर दिए।

पुराने गहने गलाने की नौबत

1 जून से सरकार देश में हालमार्किंग अनिवार्य कर रही है। मध्य प्रदेश सराफा एसोसिएशन के सचिव संतोष सर्राफ के मुताबिक 1 जून से 14,18 और 22 कैरेट के गहने ही बिकेंगे। लाकडाउन लगने और शादियां टलने से 20 कैरेट और 23 कैरेट के साथ ही अन्य कैरेट में बने विविध प्रकार के गहनों का तैयार स्टाक बिकने से रह गया है। कानून के पेंच में फंसने से बचने के लिए मजबूरी में अब ज्वेलर्स को ऐसे सभी गहनों को गलाना पड़ेगा।