ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

कोरोना ने छीन लिया चलता-फिरता ब्लड बैंक, 119 बार कर चुके थे रक्तदान

ग्वालियर। लोगों को बेहद आपात स्थिति में रक्त उपलब्ध करा देने वाले चलते-फिरते ब्लड बैंक यानी राजेश मारवाड़ी उर्फ लाला भैया अब नहीं रहे। खुद 119 बार रक्तदान करने वाले इस सेवाभावी सराफा कारोबारी को कोरोना ने हमसे छीन लिया है। उनके देहांत से हर शहरवासी, समाजसेवी व व्यापारी वर्ग शाेकमग्न है

रोटरी क्लब रीगल ग्वालियर के अध्यक्ष सुधीर त्रिपाठी ने बताया कि लाला भैया शहर में मौजूद करीब 230 थैलीसीमिया से पीड़ित बच्चों का सहारा थे। लंबे समय से उन्हें रक्त उपलब्ध कराने के काम में लगे लाला भैया को यह याद हो गया था कि किस बच्चे का कौन सा ब्लड ग्रुप है। रेयर ब्लड ग्रुप की उपलब्धता भी वह सुनिश्चित कर देते थे। शहर के कई ऐसे लोगों को भी उन्होंने रक्त उपलब्ध कराया, जिनके मरीज देश के अन्य राज्यों में इलाज के लिए भर्ती हुए। जो अब लाला भैया के सद्कर्मों को याद कर श्रद्धासुमन अर्पित कर रहे हैं। कैट के प्रदेशाध्यक्ष भूपेंद्र जैन ने बताया कि कोरोना संक्रमित होने के बाद विगत कुछ दिनों से उनका ग्वालियर के एक निजी अस्पताल में उपचार चल रहा था। एक-दो दिन उनकी हालत कुछ ज्यादा ही नाजुक हो गई थी। उनके प्रशंसक, सामाजिक कार्यकर्ता, नगर के रक्तसेवक और उनके सेवाभाव से वाकिफ सभी लोग उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए चिंतित थे व ईश्वर से कामना कर रहे थे। मगर लाला भैया हजारों चाहने वालों को रोता बिलखता छोड़कर चले गए। मारवाड़ी मात्र 15 वर्ष की आयु से रक्तदान सेवा अभियान से जुड़े थे। थैलेसीमिया पीड़ित बच्चों के अभिभावक तो उन्हें भगवान समान मानते थे। थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चों को हर महीने रक्त की जरूरत होती है। राजेश मारवाड़ी ने अपनी कोई संस्था तो नहीं बनाई और न अपने सेवाभावी कार्यों के प्रचार प्रसार के प्रयत्न किए, लेकिन उनके काम की खुशबू से पूरा शहर वाकिफ है।

शुभचिंतकों से शुभअवसर पर कराते थे रत्तदानः 8 अगस्त 1968 को जन्मे राजेश मारवाड़ी ने नई परिपाटी शुरू की थी। वे अपने मित्रों, परिचितों व शुभचिंतकों से जन्मदिन, शादी की सालगिराह आदि शुभ अवसरों पर रक्तदान कराते थे। जेएएच ब्लडबैंक, रेडक्रॉस, बिडला हॉस्पीटल्स ब्लड बैंक एवं कम्पू स्थित इमरजेंसी ब्लडबैंक के जरिए उनका सेवा अभियान अनवरत चलता था। यही कारण है कि चिकित्सक भी उनका सम्मान करते हैं। बीते साल 27 सितंबर को कैंसर पहाड़ी पर आयोजित कार्यक्रम में नगर के वरिष्ठ चिकित्सकों ने रक्तदान के क्षेत्र में उनके द्वारा किए कार्यों के लिए सम्मानित किया था।