ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

रायपुर में ऑनलाइन क्लास के जरिये किशोरियों के मन से मासिक धर्म की भ्रांतियों को किया दूर

रायपुर। कोरोना काल के चलते लोग घरों में रहने के लिए मजबूर हैं। ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी भ्रांतियों को दूर करने के लिए व्यक्तिगत रूप से लोग मितानित या आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के पास नहीं जा पा रहे हैं। इसे देखते हुए मासिक धर्म को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा वर्चुअल क्लास का आयोजन किया गया।

वर्चुअल क्लास में सीएमएचओ ने एएनएम, मितानिन और महिला एवं बाल विकास की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को मासिक धर्म के प्रति फैली भ्रांतियों को दूर करने और स्वच्छता का विशेष ध्यान देने के लिये किशोरियों को कैसे जागरुक करें, इसके बारे में बताया गया। वर्चुअल क्लास में सीएमएचओ डॉक्टर मीरा बघेल ने कहा कि मासिक चक्र 28 दिन का होना चाहिए और रक्तस्राव की अवधि पांच दिन होनी चाहिए।

सामान्यतः मासिक चक्र 28 से 30 दिन का होता है और रक्तस्राव की अवधि तीन से पांच दिन की होती है। यह प्रक्रिया शारीरिक संरचना, खानपान, जीवनशैली के स्तर के अनुसार यह अलग अलग भी हो सकती है। 20 से 35 दिन तक और रक्तस्राव की अवधि दो से सात दिन तक भी बिल्कुल सामान्य है।

इस अवसर पर जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनीष मेजरवार एवं आरएमएनसीएच कंसलटेंट डॉ. रंजना गायकवाड़ द्वारा मासिक धर्म स्वच्छता को लेकर प्रतिभागियों को किशोरियों और महिलाओं को नियमित जागरूक करते रहने को कहा गया। साथ ही नैपकिन पैड के सुनियोजित निष्पादन का तरीका भी बताया गया।

वर्चुअल क्लास की जानकारी देते हुए जिला मातृत्व स्वास्थ्य इकाई की नोडल अधिकारी डॉ. स्मृति देवांगन ने बताया कि महिलाओं के शरीर में हार्मोन्स के स्तर में होने वाले चक्रीय बदलावों के कारण प्रत्येक महीने नियमित रूप से गर्भाशय से होने वाले रक्त और अंदरूनी परत के स्राव को मासिक धर्म कहा जाता है।