ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

सिलगेर पर सरकार सख्त, मंत्री चौबे बोले छह कैंप और खोलेंगे

रायपुर। छत्तीसगढ़ के सुकमा और बीजापुर के बार्डर सिलगेर में आदिवासियों के विरोध पर अब सरकार ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। सिलगेर में सीआरपीएफ कैंप खोलने का 12 मई से विरोध कर रहे आदिवासियों को सरकार ने साफ संकेत दे दिया है कि किसी भी कीमत पर कैंप नहीं हटाया जाएगा। सरकार के प्रवक्ता और मंत्री रविंद्र चौबे ने शनिवार को मीडिया से चर्चा में कहा कि सरकार उसी इलाके में छह और कैंप बनाएगी।

सिलगेर में कैंप बनाया जा रहा था। वहां किन लोगों के द्वारा विरोध किया गया, यह बहुत स्पष्ट है। केवल सिलगेर का मामला नहीं है। आने वाले दिनों में हम उसके आगे के रास्ते में छह और कैंप बना रहे हैं। मंत्री चौबे के बयान से साफ हो गया कि आदिवासियों की नाजायज मांग को सरकार मानने के पक्ष में नहीं है। सिलगेर में तीन आदिवासियों की मौत की दंडाधिकारी जांच चल रही है। इस बीच, आदिवासी सड़क को रोककर खड़े हैं। नक्सलियों का नाम लिए बिना मंत्री चौबे ने इशारों-इशारों में सरकार का इरादा जता दिया है।

वहीं, पुलिस भी सिलगेर में प्रदर्शन कर रहे आदिवासियों का समर्थन करने वालों का खुफिया इनपुट तैयार कर रही है। देशभर के आदिवासी समाज के नेता इसे समाज पर अत्याचार के रूप में प्रचारित कर रहे हैं। इन नेताओं की हरकतों पर खुफिया विभाग ने निगरानी शुरू कर दी है। पुलिस मुख्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो नक्सलियों के शहरी समर्थक इस मामले को तूल दे रहे हैं।

बताया जा रहा है कि सुकमा के सिलगेर से बीजापुर के तर्रेम तक एक सड़क बन रही है। इस सड़क का आगे भी विस्तार होना है। नक्सली प्रभाव वाले इलाके में इस सड़क की सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ के कैंप की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। सरकार को लगता है कि अगर कैंप नहीं बन पाए तो सड़क बनाना मुश्किल हो जाएगा।