ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

ट्रेन में झांसी से भोपाल तक छेड़छाड़ करने वालों का मुकाबला किया, थाने में ढाई घंटे बिताए, सिस्टम से त्रस्त आकर कहा— अब नहीं करूंगी एफआइआर

भोपाल। ट्रेन में छेड़छाड़ की शिकार जिस महिला ने झांसी से भोपाल तक तीन-तीन बदमाशों से मुकाबला किया, उन्हें सजा दिलाने के लिए रेलवे के अधिकारियों से गुहार लगाती रही। आधी रात को ढाई घंटे भोपाल जीआरपी थाने में एफआइआर दर्ज कराने के लिए चक्कर काटे। जब किसी ने नहीं सुनी तो रेलमंत्री पीयूष गोयल, डीआरएम भोपाल व अन्य को ट्विवट पर शिकायत की। उसी महिला ने सोमवार सुबह कह दिया कि मैं सिस्टम से त्रस्त हो गई हूं। एफआइआर दर्ज नहीं कराना चाहती।
मामला राजधानी एक्सप्रेस के एसी कोच में टीटीई व दो अन्य लोगों द्वारा छेड़छाड़ करने का है। महिला नई दिल्ली से मुंबई जा रही राजधानी एक्सप्रेस 01222 में एचए-1 के सी कूपे में बैठी थी। ट्रेन रविवार रात 12.40 बजे भोपाल स्टेशन पहुंची थी। महिला ने झांसी के बाद ही उसके साथ छेड़छाड़ करने की शिकायत की थी। सूचना पर जीआरपी के जवान कोच में पहुंचे थे, लेकिन छेड़छाड़ करने वाला टीटीई व अन्य लोग छुप गए। महिला ने ट्रेन रोककर तलाशी की मांग भी की थी, लेकिन ठहराव समय से अधिक समय तक ट्रेन नहीं रोकी गई, तब तक बदमाश नहीं मिले थे।

जवानों ने ऐसे डराया
दरअसल एफआइआर दर्ज नहीं करने की वजह सिस्टम से नाराजगी और जिम्मेदार अधिकारी व जवानों द्वारा दिखाया गया डर है। महिला के परिजनों ने बताया कि रविवार रात में जब एफआइआर दर्ज करने की गुहार लगाते रहे, तब कुछ अधिकारी व जवान बदनामी का डर दिखाने लगे। कहने लगे कि सोच लो। एफआइआर दर्ज कराई तो गवाही देने के लिए कोर्ट के चक्कर लगाने पड़ेंगे। समाज में बदनामी अलग होगी। यह बात महिला के परिचित ने ट्विटर पर रेलमंत्री और डीआरएम को बताई है। जीआरपी के जवानों का जिक्र भी किया है। परिजनों ने यहां तक बताया कि महिला से रात में ही जीआरपी के जवान यह लिखवाना चाहते थे कि वो कोई कार्रवाई नहीं करवाना चाहती।

सोमवार सुबह महिला के एक परिजन ने बताया कि वह त्रस्त हो गई है, सदमे है। अब शिकायत नहीं करवाना चाहती। रविवार रात में उसे सही बात कहने पर डराया-धमकाया गया। कार्रवाई नहीं की गई। आरोपितों को पकड़ने की बजाय कार्रवाई करने वालों का जोर महिला को समझाने में रहा।
महिला के साथ रात में छेड़छाड़ की जानकारी मिली थी। महिला से संपर्क कर रहे हैं। यदि वह चाहेगी तो एफआइआर दर्ज करेंगे। छेड़छाड़ करने वालों को नहीं छोड़ा जाएगा। रात में महिला को क्यों नहीं सुना गया, इसकी जांच करवाएंगे।

—हितेश चौधरी, एसआरपी, जीआरपी भोपाल