ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

कर्नाटक भाजपा प्रभारी अरुण सिंह बोले- नहीं बदला जाएगा प्रदेश मुखिया, शानदार काम कर रहे हैं CM बीएस येदियुरप्पा

बेंगलुरु। कर्नाटक में इन दिनों प्रदेश भाजपा प्रमुख को बदलने के संदर्भ में राजनीति तेज हो गई है। हालांकि, मौजूदा कर्नाटक भाजपा प्रभारी अरुण सिंह ने साफ कर दिया है कि भाजपा प्रमुख को नहीं बदला जाएगा यह सिर्फ अफवाह फैलाई जा रही है। आगे उन्होंने कहा कि पार्टी के मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में संगठन का काम अच्छा चल रहा है। हम जमीनी स्तर पर अच्छा काम कर रहे हैं।

इसके अलावा उन्होंने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को लेकर भी अपना बयान दिया। अरुण सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा अच्छे मुख्यमंत्री है। वह अच्छा काम कर रहे हैं। वह सीएम पद पर बरकरार रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सभी  मंत्रियों के साथ मिलकर कोरोना में भी अच्छा कार्य किया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दिनों खबर आई आई थी कर्नाटक में भाजपा में ही दो धड़े आमने-सामने हो गए थे। इस दौरान मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सरकार भी अंदरूनी कलह से फंसी। इस दौरान येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाने तक की चर्चा गर्म हो गई थी। हालांकि, उनके समर्थक करीब 65 विधायकों ने विरोधियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। उन्होंने पत्र लिखकर ऐसे विधायकों के खिलाफ कार्रवाई लेने की मांग कर दी थी ,जो अपनी गतिविधियों से सरकार के लिए परेशानी का सबब बन रहे थे।

गौरतलब है कि येदियुरप्पा के खिलाफ पार्टी के अंदर आक्रोश समय-समय पर सामने आता रहा है। ताजा विवाद की जड़ में फंड एलोकेशन को लेकर पिछले साल हुई एक मीटिंग है। विधानसभा क्षेत्रों के लिए फंड एलोकेशन पर हुई आंतरिक बैठक में भाजाप के कुछ विधायकों ने ही मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्च खोल दिया था। फिर कैबिनेट विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री अपने विधायकों के निशाने पर आ गए थे। पिछले दिनों पंचामशाली लिंगायतों को आरक्षण के मुद्दे पर भी विवाद हुआ और फिर कोविड मैनेजमेंट को लेकर भी सीएम अपने मंत्रियों और विधायकों के निशाने पर रहे हैं।