ब्रेकिंग
केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर दी बड़ी राहत, जानें कितने घट गए दाम केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी

कर्नाटक भाजपा प्रभारी अरुण सिंह बोले- नहीं बदला जाएगा प्रदेश मुखिया, शानदार काम कर रहे हैं CM बीएस येदियुरप्पा

बेंगलुरु। कर्नाटक में इन दिनों प्रदेश भाजपा प्रमुख को बदलने के संदर्भ में राजनीति तेज हो गई है। हालांकि, मौजूदा कर्नाटक भाजपा प्रभारी अरुण सिंह ने साफ कर दिया है कि भाजपा प्रमुख को नहीं बदला जाएगा यह सिर्फ अफवाह फैलाई जा रही है। आगे उन्होंने कहा कि पार्टी के मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में संगठन का काम अच्छा चल रहा है। हम जमीनी स्तर पर अच्छा काम कर रहे हैं।

इसके अलावा उन्होंने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को लेकर भी अपना बयान दिया। अरुण सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा अच्छे मुख्यमंत्री है। वह अच्छा काम कर रहे हैं। वह सीएम पद पर बरकरार रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सभी  मंत्रियों के साथ मिलकर कोरोना में भी अच्छा कार्य किया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दिनों खबर आई आई थी कर्नाटक में भाजपा में ही दो धड़े आमने-सामने हो गए थे। इस दौरान मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सरकार भी अंदरूनी कलह से फंसी। इस दौरान येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से हटाने तक की चर्चा गर्म हो गई थी। हालांकि, उनके समर्थक करीब 65 विधायकों ने विरोधियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। उन्होंने पत्र लिखकर ऐसे विधायकों के खिलाफ कार्रवाई लेने की मांग कर दी थी ,जो अपनी गतिविधियों से सरकार के लिए परेशानी का सबब बन रहे थे।

गौरतलब है कि येदियुरप्पा के खिलाफ पार्टी के अंदर आक्रोश समय-समय पर सामने आता रहा है। ताजा विवाद की जड़ में फंड एलोकेशन को लेकर पिछले साल हुई एक मीटिंग है। विधानसभा क्षेत्रों के लिए फंड एलोकेशन पर हुई आंतरिक बैठक में भाजाप के कुछ विधायकों ने ही मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्च खोल दिया था। फिर कैबिनेट विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री अपने विधायकों के निशाने पर आ गए थे। पिछले दिनों पंचामशाली लिंगायतों को आरक्षण के मुद्दे पर भी विवाद हुआ और फिर कोविड मैनेजमेंट को लेकर भी सीएम अपने मंत्रियों और विधायकों के निशाने पर रहे हैं।