ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

खुले में पड़ा है 14 लाख मीट्रिक टन धान

बिलासपुर।  आम आदमी पार्टी की प्रदेश में मुख्यमंत्री के नाम धान संग्रहण केंद्रों में धान को सड़ने से बचाने व्यवस्था सुनिश्चित करने करने कलेक्टर व अनुविभागीय अधिकारियों के माध्यम से ज्ञापन सौंपा जा रहा है। प्रदेश संगठन मंत्री प्रफुल्ल सिंह बैस ने का कहना है कि बारिश का मौसम आने वाला है और अभी भी पिछले वर्ष खरीदे गए 14 लाख मीट्रिक टन धान खुले में पड़ा है।

राज्य सरकार द्वारा प्रतिवर्ष राज्य के पंजीकृत किसानों से खरीफ़ सीजन में लाखों टन धान की खरीदी कर उनका संग्रहण खुले आसमान के नीचे किया जाता है। संग्रहण केंद्रों में धान की भूसी की मोटी परत पर धान की छल्ली लगाई जाती है, जिसे प्लास्टिक से ढंक दिया जाता है। धान संग्रहण केंद्रों का स्थान चयन करने के समय इस बात का ध्यान नहीं रखा जाता कि कहीं वहां बारिश के समय जल भराव तो नहीं होता।

इससे बारिश में धान की छल्ली की नीचे की परतें भीगकर खराब हो जाती हैं। इससे धान भी खराब होता है। सड़ा हुआ धान राइस मिलरों के किसी काम का नहां होता और शराब निर्माण के अलावा इसका कोई उपयोग भी नहीं होता। ऐसे में टेंडर के माध्यम से इसकी बिक्री शराब निर्माताओं को कौड़ियों के दाम की जाती है, जिससे प्रतिवर्ष लगभग 150 करोड़ राजस्व की क्षति राज्य सरकार को होती है।

कृषि फसलों के भंडारण को लेकर भी राज्य सरकार गंभीर नहीं है। आम आदमी पार्टी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मांग की है कि वे किसानों की मेहनत का सम्मान करते हुए धान संग्रहण केंद्रों में वैज्ञानिक रूप से उन्नात व्यवस्था बनाकर प्रतिवर्ष अरबों रुपयों की राजस्व क्षति से राज्य को बचाएं।