ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

चीनी हैकर्स ने बनाया रूसी सरकार की वेबसाइटों को निशाना, गोपनीय डेटा चुराने की कोशिश

मास्को। चीन के हैकर्स ने रूसी सरकार की वेबसाइटों को निशाना बनाया है। एक रिपोर्ट के अनुसार गोपनीय सरकारी डेटा चोरी करने के उद्देश्य से रूसी सरकारी एजेंसियों की वेबसाइटों को हैक करने के लिए सॉफ्टवेयर का उपयोग किया गया। अमेरिकी कंपनी सेंटिनलवन द्वारा यह रिपोर्ट पिछले महीने रूस की प्रमुख जासूसी एजेंसियों में से एक फेडरल सिक्योरिटी सर्विस (FSB) और टेलीकॉम फर्म रोस्टेलकॉम की साइबर यूनिट की तरफ से जारी एक रिपोर्ट पर आधारित है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि कैसे थंडरकैट्स (चीन से जुड़े एक हैकर समूह का नाम) ने रूसी सरकारी एजेंसियों की वेबसाइटों को हैक कर लिया। अमेरिकी कंपनी सेंटिनलवन के विशेषज्ञों ने कहा कि रूसी एजेंसियों पर हमला करने वाला हैकिंग टूल संदिग्ध चीनी जासूसों के एक व्यापक समूह से जुड़ा है, जिन्होंने हाल के वर्षों में एशियाई सरकारों को भी निशाना बनाया है। विशेषज्ञ इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि चीन के हैकर्स ने मेल-ओ नामक एक सॉफ़्टवेयर (मैलवेयर) विकसित किया है, जो एक डाउनलोडर प्रोग्राम है।

रिपोर्ट में विशेषज्ञों ने उल्लेख किया है कि वर्तमान साइबर हमला अद्वितीय है और विशेषज्ञों द्वारा संघीय स्तर पर खतरे के रूप में इसका आकलन किया जा रहा है। ऐसा करने वालों ने लेटेस्ट सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया। यही नहीं हैकर्स ने एक साथ कई प्रकार के हमलों का इस्तेमाल किया। जैसे फिशिंग, वेब कमजोरियों का शोषण और ठेकेदारों के माध्यम से हमले किए गए। पिछले साल, अमेरिकी अधिकारियों ने सार्वजनिक रूप से एक संदिग्ध चीनी हैकिंग अभियान का खुलासा किया जिसने रूस और अन्य पूर्व सोवियत गणराज्यों में संस्थाओं को लक्षित किया।