ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

शशिकला की राजनीति में वापसी के संकेत से AIADMK में बैचेनी, सी पोन्नईयन ने कहा- उनका पार्टी से कोई रिश्ता नहीं

चेन्नई। कुछ दिन पहले तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की सहयोगी शशिकला का एक ऑडियो लीक हुआ था, जिसमें उन्होंने राजनीति में वापसी के संकेत दिए थे। इस ऑडियो के सामने आने के बाद एआइएडीएमके में बेचैनी पैदा हो गई है। शनिवार को पार्टी के नेता सी पोन्नईयन ने स्पष्ट करते हुए कहा कि शशिकला का अन्नाद्रमुक से नहीं बल्कि एएमएमके पार्टी से रिश्ता है और अन्नाद्रमुक को पुनर्जीवित करने का उन्हें कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने दावा किया कि शशिकला उनकी पार्टी की सदस्य नहीं हैं क्योंकि वह टीटीवी दिनाकरन की अम्मा मक्कल मुनेत्र कड़गम (एएमएमके) से संबंधित हैं। उन्होंने यह भी कहा कि शशिकला के पास अन्नाद्रमुक को पुनर्जीवित करने का अधिकार नहीं है।

बता दें कि अन्नाद्रमुक की निष्कासित नेता शशिकला ने मार्च में विधानसभा चुनावों से पहले राजनीति से संन्यास का एलान किया था। इसके बाद पिछले महीने उनका एक ऑडियो लीक हुआ था जिसमें उन्हें पार्टी के एक कार्यकर्ता से राजनीति में लौटने की बात करते हुए सुना गया था

पोन्नईयन ने कहा, ‘शशिकला हमारी पार्टी की सदस्य नहीं हैं। वह टीटीवी दिनाकरन के समूह से संबंधित हैं। उनके पास यह कहने का कोई अधिकार नहीं है कि वह अन्नाद्रमुक को पुनर्जीवित करने जा रही हैं। जो कोई भी शशिकला से बात कर रहा है, वे अन्नाद्रमुक से संबंधित नहीं हैं।’

इससे पहले, 30 मई को, शशिकला ने कोरोना महामारी खत्म होने के बाद सक्रिय राजनीति में वापसी के संकेत दिए थे। सोशल मीडिया पर वायरल हुए शशिकला और पार्टी के एक कैडर के बीच फोन पर हुई बातचीत की एक ऑडियो क्लिप में नेता को राजनीति में अपनी वापसी की योजना की पुष्टि करते हुए सुना गया था। फोन कॉल की पुष्टि एएमएमके महासचिव टीटीवी दिनाकरन के निजी सहायक जनार्दन ने की है।

शशिकला को फोन कॉल के दौरान कैडर से कहते हुए सुना गया, “चिंता मत करो, मैं पार्टी की चीजों को जरूर सुलझा लूंगी। सभी बहादुर बनो। एक बार कोरोना महामारी ख्तम हो जाएगी, तो मैं वापस आऊंगी।’ इस पर कैडर ने जवाब देते हुए कहा, ‘हम आपके पीछे रहेंगे अम्मा।’

इससे पहले मार्च में, निष्कासित अन्नाद्रमुक नेता ने राजनीति से संन्यास की घोषणा की थी और एक बयान जारी कर कहा था कि वह ‘खुद को राजनीति से अलग’ कर लेंगी। उन्होंने अपने बयान में कहा था, ‘मैंने खुद को राजनीति से अलग कर लिया और अपनी देवी अक्का (जयललिता) के सुनहरे शासन के लिए प्रार्थना की।’

मालूम हो कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में चार साल की जेल की सजा पूरी होने के बाद फरवरी में शहर लौटने के बाद शशिकला चेन्नई के टी नगर इलाके में रह रही थी। दिसंबर 2016 में जयललिता के निधन के बाद, शशिकला अन्नाद्रमुक की महासचिव चुनी गई थीं। फरवरी 2017 में आय से अधिक संपत्ति के मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद उन्होंने अपने भतीजे टी टी वी दिनाकरन को पार्टी की कमान सौंप दी थी।

एडप्पादी पलानीस्वामी को उनके समर्थन से मुख्यमंत्री बनाया गया था, लेकिन साल 2017 में शशिकला और टी टी वी दिनाकरण को ए पनीरसेल्वम के नेतृत्व वाले प्रतिद्वंद्वी गुट के बाद हटा दिया गया था।