ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

भारत ने 200 सालों में केवल तीन फीसद किया कार्बन उत्सर्जन : प्रकाश जावडेकर

नई दिल्ली। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि भारत ने पिछले 200 सालों से पर्यावरण परिवर्तन में केवल तीन फीसद का ही योगदान दिया है। जबकि यूरोप और अमेरिका ने पिछले दो सौ सालों में और चीन ने 40 सालों में बेहिसाब कार्बन उत्सर्जन किया है।

जावडेकर ने सोमवार को वर्चुअल ‘एनवायरमेंट कान्क्लेव : रिवाइवल,रीजेनेरेशन एंड कंजरवेशन आफ नेचर’ में कहा कि पेरिस समझौते के तहत विकसित देशों ने विकासशील देशों के लिए 1.1 खरब अमेरिकी डालर की रकम नुकसान की भरपाई के तौर पर देने का एलान किया था। लेकिन रविवार को जी-सात की बैठक में भी इस पर चर्चा हुई है। उन्होंने कहा कि यूरोप, अमेरिका और चीन जैसे देशों ने विश्व को आर्थिक रूप से समृद्ध किया लेकिन दुनिया को बुरी तरह से प्रदूषित कर दिया है। उन्होंने कहा कि भारत ऐसा देश है जिसकी वजह से पर्यावरण परिवर्तन पर सबसे कम असर पड़ा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पेरिस समझौते के मुताबिक हर साल देश 100 अरब डालर पर्यावरण परिवर्तन के लिए विकासशील देशों को दी जाने वाली हैं।

इस बीच, केंद्रीय रेल, वाणिज्य और उद्योगमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि एक स्वच्छ वातावरण और निरंतर विकास की ओर बढ़ने का भारत का एजेंडा है। उन्होंने कहा कि कोविड के बाद दुनिया में पर्यावरण के लक्ष्यों को हासिल करने की इच्छा तीव्रता से बढ़ेगी।