ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

अगर एक साथ खेलें ये दो भारतीय खिलाड़ी तो देते हैं जीत की गारंटी, आंकड़े हैं गवाह

नई दिल्ली। ICC World Test Championship के फाइनल के लिए 24 खिलाड़ी इंग्लैंड गए, जहां साउथैंप्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 जून से महामुकाबला खेला जाना है। इनमें से 20 खिलाड़ी भारतीय टीम का हिस्सा थे, जबकि 4 खिलाड़ी रिजर्व प्लेयर्स के तौर पर इंग्लैंड गए थे, लेकिन आइसीसी के नियमों के कारण सिर्फ 15 खिलाड़ियों में से ही प्लेइंग इलेवन का चयन होना था। ऐसे में दोनों टीमों को अपनी-अपनी 15-15 सदस्यीय टीम का चयन करना पड़ा, लेकिन 15 सदस्यीय टीम में से भी प्लेइंग इलेवन का चुनाव करना भारतीय मैनेजमेंट के लिए मुश्किलों भरा रहने वाला है।

भारतीय टीम मैनेजमेंट चाहता है कि तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज को प्लेइंग इलेवन में मौका मिले, लेकिन आंकड़े ये कहते हैं कि जब दो भारतीय स्पिनर एक साथ मैदान पर उतरते हैं तो फिर भारतीय टीम के लिए वे लगभग जीत की गारंटी होते हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं आर अश्विन और रवींद्र जडेजा की, जिनके आंकड़े साथ में खेलते हुए लाजबाव हैं। अश्विन और जडेजा का साथ खेलना भारत के लिए टेस्ट प्रारूप में लगभग जीत की गारंटी होती है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि दोनों के साथ खेलते हुए भारतीय टीम लगभग 77 फीसदी मैच जीतती है।

भारत के लिए अश्विन और जडेजा की जोड़ी ने कुल 39 टेस्ट मैच खेले हैं। इनमें से 30 मैचों में भारतीय टीम को जीत मिली है। वहीं, सिर्फ दो टेस्ट मैच भारत ने हारे हैं, जबकि सात मैच बेनतीजा रहे हैं। भारत का जीत प्रतिशत दोनों के साथ खेलते हुए 76.92 का है। यही वजह है कि इनका साथ खेलना भारत के लिए जीत की गारंटी होता है। ऐसे में कप्तान विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट चाहेगा कि आर अश्विन और रवींद्र जडेजा की जोड़ी को फिर से मैदान पर उतारा जाए और आइसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ फतेह हासिल की जाए।

अश्विन और जडेजा को प्लेइंग इलेवन से बाहर रखना इसलिए भी भारतीय टीम के लिए मुफीद नहीं होगा, क्योंकि वे गेंदबाजी के साथ-साथ बल्ले से भी विपक्षी टीम पर हल्ला बोलने में कामयाब हो रहे हैं। ऐसे में बड़े मौके के लिए इन दोनों बड़े खिलाडियों का साथ खेलना भारतीय टीम के लिए फायदे का सौदा हो सकता है। इन दो स्पिनरों के अलावा भारतीय टीम तीन तेज गेंदबाज खिलाए, जिनमें वे मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और अनुभवी इशांत शर्मा को शामिल कर सकते हैं।