ब्रेकिंग
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत हार्दिक के जाने के बाद नरेश पटेल को रिझाने में जुटी कांग्रेस

पाटन में फंदे पर लटकी मिली पिता-पुत्र की लाश, तीन जले शवों के मिले अवशेष

पाटन। थाना अंतर्गत ग्राम बठेना में एक हृदय विदारक घटना सामने आई है। एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत की खबर ने इलाके के लोगों को झकझोर कर रख दिया। पिता पुत्र का शव एक ही फंदे में झूलते हुए देखकर गांव में हाहाकार मच गया। पास ही भूसे के ढेर (पैरावट) में तीन लाश और मिली हैं। पैरावट में एक खोपड़ी दिखाई दे रही है, जिसे लेकर माना जा रहा है कि वह मृतक परिवार के मुखिया की पत्नी की हो सकती है

एसपी प्रशांत ठाकुर ने बताया कि ग्राम बठेना निवासी राम बृज गायकवाड़ पिता रंगु राम 55 वर्ष एवं उसके पुत्र संजू गायकवाड़ का शव एक ही रस्सी से लटका मिला है। राम बृज की पत्नी जानकी बाई और दोनों पुत्रियों ज्योति व दुर्गा घर में नहीं मिली हैं। मगर, पास ही पैरावट में जली हुई लाशों में से एक की खोपड़ी का अवशेष मिला है। माना जा रहा है कि वह राम बृज की पत्नी का अवशेष हो सकता है। मौके पर पहुंची फॉरेंसिक की टीम के अनुसार पैरा में तीन शव जले हुए हैं। जाहिर है कि यह उसकी दोनों बेटियों के शव हैं।

पैरावट में जो लाश का अवशेष मिला है, उसे तार से बांध दिया गया था। इससे अंदेशा लगाया जा रहा है कि पहले पत्नी और बेटियों को मारकर जला दिया गया होगा, उसके बाद पिता-पुत्र ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली होगी क्योंकि मृतक राम ब्रिज और संजू के पैर भी जले हुए हैं।

हालांकि, पुलिस मामले की हर एंगल से जांच कर रही है। मौके पर एसडीओपी आकाश राव गिरपुंजे, थाना प्रभारी शिवानंद तिवारी सहित थाना स्टाफ पहुंच कर जांच कर रहा है।

पुलिस ने बताया कि राम बृज मूल रुप से भिलाई के पास रहने वाला था। उसके पिता ने पाटन में कुछ जमीन खरीदी थी, जहां राम बृज का परिवार पिछले करीब 35 साल से रह रहा था। उसके परिवार पर काफी कर्ज था। उसके दो भाई और हैं, छोटा भाई नीलकमल भानुप्रतापपुर में रहता है और उसकी पत्नी वहां शिक्षाकर्मी है। वहीं, मझला भाई रायपुर के तेलीबांधा के पास किसी आश्रम में रहता है।

बताया जा रहा है कि रामबृज के पास करीब 10-12 एकड़ जमीन थी, वह तीनों भाइयों के नाम पर थी। तीनों भाइयों ने मिलकर करीब 90 फीसद जमीन बेची थी। मगर, राम बृज पर इसके बावजूद काफी कर्ज था। पुलिस अभी ग्रामीणों से पता करने की कोशिश कर रही है कि उस पर कितने का कर्ज था, कितने लोगों से लिया था और जमीन बेचने के बाद जो पैसा मिला था, उसका राम बृज ने क्या किया। हालांकि, इन सवालों के जवाब तभी मिल पाएंगे, जब उसके भाई गांव में पहुंचेंगे।