ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

हिमाचल प्रदेश के निजी विश्‍वविद्यालयों में गड़बड़झाला, अब ईडी को सौंपा जाएगा जांच का जिम्मा

शिमला। Himachal Private University, हिमाचल में चल रहे कुछ निजी विश्वविद्यालयों पर अब वित्तीय गड़बड़झाले का आरोप लगा है। हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग इन संस्थानों के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से जांच करवाएगा। आयोग के पास इसको लेकर एक शिकायत आई थी। आरोप पुख्ता होने के बाद इनके खिलाफ आयोग ने ईडी से जांच करवाने का निर्णय लिया है। आरोप है कि निजी विश्वविद्यालयों को ट्रस्ट संचालित कर रहे हैं। यह ट्रस्ट दूसरे राज्यों से आपरेट होते हैं।

विश्वविद्यालयों से होने वाली कमाई को ये ट्रस्ट व्यवसायिक गतिविधियों जैसे होटल निर्माण, अस्पताल बनाने के अलावा कई अन्य गतिविधियों पर खर्च कर रहे हैं। इन विश्वविद्यालयों ने दस्तावेजों में खुद को घाटे में दर्शाया है। जांच की जद में निजी विश्वविद्यालयों के साथ कई निजी कॉलेज भी आएंगे। प्रदेश में 17 निजी विश्वविद्यालय हैं, जबकि 245 के करीब कॉलेज निजी क्षेत्र में चल रहे हैं।

क्या कहते हैं नियम

नियमों के तहत शिक्षण संस्थानों से जो कमाई होती है उसे गुणात्मक शिक्षा, शिक्षण संस्थान के मूलभूत ढांचे, कर्मचारियों के वेतन, भत्तों के अलावा संस्थान में संचालित की जाने वाली गतिविधियों पर ही खर्च किया जा सकता है। शिक्षण संस्थानों से होने वाली कमाई को अन्य गतिविधियों पर नहीं खर्चा जा सकता है।

पहले से चल रहे कई विवाद

हिमाचल में चल रहे निजी विश्वविद्यालय पहले फर्जी डिग्री विवाद में घिरे। दो निजी विश्वविद्यालयों के खिलाफ सीबीआइ जांच कर रही है। छात्रवृत्ति घोटाले में भी कुछ संस्थानों का नाम आया है। निजी विश्वविद्यालयों में अयोग्य कुलपतियों की नियुक्ति को लेकर भी विवाद हुआ। अयोग्य कुलपतियों को आयोग ने हटाने के निर्देश दिए थे। दूसरे निजी शिक्षण संस्थानों में भी प्रधानाचार्य अयोग्य पाए गए हैं। इनके खिलाफ भी जांच चल रही है।

ईडी को सौंपी जाएगी जांच : आयोग

हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग के अध्‍यक्ष अतुल कौशिक का कहना है आयोग के पास शिकायत आई है कि कुछ निजी विश्वविद्यालय और दूसरे शिक्षण संस्थान अपनी कमाई को व्यवसायिक गतिविधियों पर खर्च कर रहे हैं। यह नियमों के विपरीत है। इस तरह के मामलों की जांच ईडी करता है। आयोग ने निर्णय लिया है कि इस मामले की जांच ईडी को सौंपी जाएगी।