ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

वेतन विसंगति को लेकर रायपुर में शिक्षकों का हल्ला बोल

रायपुर। छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले शुक्रवार को राजधानी रायपुर में बड़ी संख्या में शिक्षक एकजुट होकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। रायपुर में बूढ़ा तालाब में एकजुट होकर फेडरेशन के पदाधिकारी वेतन विसंगति दूर कराने की मांग लेकर मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने के लिए जुटे रहे। इसमें रायपुर बूढा तालाब परिसर में धरना-प्रदर्शन कर सीएम हाउस घेरने पर चर्चा की। प्रदर्शन के दौरान मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा।

शिक्षकों का कहना है कि उनकी मांगे सरकार पूरी नहीं कर रही है। यदि मांगों को पूरा नहीं किया गया, तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। प्रदर्शन में शामिल होने जिले के सभी ब्लॉक के सहायक शिक्षको सहमति दी है। शिक्षक साथी अपने साधन बस, ट्रेन, कार व दोपहिया वाहनों से राजधानी रायपुर पहुंचे।

फेडरेशन के पदाधिकारियों ने कहा है कि यह लड़ाई प्रदेश के सभी एक लाख नौ हजार सहायक शिक्षकों की है, फेडरेशन ने मुख्यमंत्री निवास का घेराव और धरना-प्रदर्शन साहसिक एवं ऐतिहासिक निर्णय है। जब तक हम अपनी मांगों के लिए संघर्ष नहीं करेंगे। तब तक हमारी वेतन विसंगति दूर नहीं हो सकती है। हमें हर माह 10 से 15 हजार रुपये का आर्थिक नुकसान हो रहा है।

इसके अलावा न हमें क्रमोन्नाति मिल रही है और न ही पदोन्नाति मिल रही है। वेतन विसंगति दूर कराने की लड़ाई में सभी सहायक शिक्षक साथ दें, यह संघर्ष सहायक शिक्षकों के लिए ऐतिहासिक होगा। गौरतलब है कि इसके पहले भी सहायक शिक्षक फेडरेशन ने कई बार वेतन विसंगति की माग को लेकर राजधानी में प्रदर्शन किया है।