ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

हांगकांग और शिनजियांग के मुद्दे चीन-अमेरिका वार्ता में बनेंगे मुश्किल, जल्द ही दोनों देशों के बीच होनी है बातचीत

वाशिंगटन। हांगकांग में चुनाव व्यवस्था में परिवर्तन और शिनजियांग में उइगर मुस्लिमों के नरसंहार के मामले चीन और अमेरिका के बीच अलास्का में होने वाली बैठक में दिक्कत खड़ी करेंगे। इन दोनों ही मामलों पर एक बार फिर अमेरिका ने चीन की आलोचना की है। यह भी कहा है कि इससे राजनयिक वार्ता में मुश्किल हो सकती है। इन मसलों को जोरदारी से उठाने के लिए अमेरिका ने अपनी प्रतिबद्धता जता दी है।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा कि अलास्का में 18 व 19 मार्च को चीन के साथ विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलीवान इन मुद्दों को उठाने से पीछे नहीं हटेंगे। इसके साथ ही हमारे लिए हांगकांग में लोकतंत्र और ताइवान का मुद्दा भी महत्वपूर्ण है। उइगर मुस्लिमों का नरसंहार का मामला तो बहुत ही गंभीर है।

शिनजियांग, ताइवान और हांगकांग के मामले में अमेरिका के बयान पर चीन ने पहले ही इसको आंतरिक मामले में दखल देना बताया है। चीन इन मुद्दों को दरकिनार कर मतभेदों को दूर करने पर जोर देना चाहता है।

चीन से जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर भी होगी वार्ता

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने हांगकांग में चुनाव व्यवस्था में परिवर्तन के मसले पर कहा कि यह सीधे तौर पर यहां की लोकतांत्रिक व्यवस्था और स्वतंत्रता पर हमला है। नेड प्राइस ने कहा है कि चीन से जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर भी वार्ता होगी।

उन्होंने कहा कि हम केवल बातचीत नहीं कर रहे हैं। बीजिंग को सभी मुद्दों पर गंभीरता दिखानी होगी। जिससे दोनों देशों के संबंध सामान्य हो सकें।

ज्ञात हो कि अमेरिका का जो बाइडन प्रशासन चीन से संबंधों को लेकर नए सिरे से समीक्षा कर रहा है। इसी बीच वार्ता में सबसे बड़ी बाधा उइगर मुस्लिमों के नरसंहार, हांगकांग और ताइवान के मुद्दे हैं। इन तीनों ही मुददें पर वार्ता से कुछ दिन पहले तक चीन का अडि़यल रवैया बना हुआ है।