ब्रेकिंग
इलेक्शन मोड में काग्रेस, इसलिए 'दागियों' पर अभी नो एक्शन डॉक्टरी-इंजीनियरिंग की पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों को स्टार्टअप के लिए भी सहयोग की व्यवस्था – मुख्यमंत्री चौहान अलवर पुलिस ने जीरो FIR दर्ज कर रेवाड़ी भेजी; महिला पर संगीन आरोप AAP सुप्रीमो ने ट्वीट लिखा- गुजरात का सह प्रभारी बनने के बाद AAP सांसद केंद्र के टारगेट पर टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi छत्तीसगढ़ के स्टार्टअप ईको सिस्टम को देखने जल्द आयेगा ऑस्ट्रिया का दल एंबुलेंस में पकड़े गए 25 करोड़ के फर्जी नोट नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने नगर पंचायत समोदा को प्रदान की एम्बुलेंस गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के करीबियों को मारने की बना रहे थे प्लानिंग, 4 पिस्टल रिकवर मोहन भागवत - संकट में केवल भारत ने की श्रीलंका की मदद

जी-20 बैठक में बोले एस. जयशंकर, आतंकवाद के लिए ना हो अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल

न्यूयार्क। अफगानिस्तान पर जी-20 देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि आतंकवाद के लिए अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल नहीं होने देने की तालिबान की प्रतिद्धता को लागू किया जाना चाहिए। दुनिया अफगानिस्तान में व्यापक आधार वाली समावेशी सरकार की अपेक्षा करती है, जिसमें अफगान समाज के सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व हो।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत की भागीदारी अफगान लोगों के साथ उसकी एतिहासिक दोस्ती से प्रेरित होगी। जयशंकर ने यहां महासभा के 76वें सत्र से इतर बैठक को संबोधित करते हुए ये बातें कही हैं। उन्होंने कहा, किसी भी तरह से आतंकवाद के लिए अफगान धरती के उपयोग की अनुमति नहीं देने की तालिबान की प्रतिबद्धता को लागू किया जाना चाहिए। दुनिया एक व्यापक-आधारित समावेशी प्रक्रिया की उम्मीद करती है जिसमें अफगान समाज के सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व शामिल हो।

उन्होंने कहा कि मानवीय जरूरतों के जवाब में अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक साथ आना चाहिए और निर्बाध तरीके से सीधी पहुंच प्रदान की जानी चाहिए।’ विदेश मंत्री ने यूएनएससी प्रस्ताव 2593 पर बात करते हुए कहा, यह वैश्विक भावना को दर्शाता है और हमारे दृष्टिकोण का मार्गदर्शन करना जारी रखना चाहिए। भारत की भागीदारी अफगान लोगों के साथ उसकी ऐतिहासिक दोस्ती से प्रेरित होगी।