Jain
ब्रेकिंग
प्लॉट खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान, बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा और होगा भरपूर लाभ कर्ज से मुक्ति के लिए आजमाएं वास्तु शास्त्र से जुड़े उपाय भगवान कृष्ण से सम्बंधित 13 खास मंदिर 14 घंटे रेस्क्यू चलने के बावजूद 17 लोगों को नहीं खोज सके; घाटों पर गोताखोर तैनात जहां सीएम मनाएंगे अमृत महोत्सव, वहां कलेक्टर-आईजी ट्रैक्टर से पहुंचे भाद्रपद माह में जन्माष्टमी और गणेश उत्सव जैसे कई बड़े त्योहार घर में इस जगह पर रखें फेंगशुई ड्रैगन, सकारात्मक ऊर्जा का होगा संचार और बरसेगा धन इन लॉकेट को पहनने के जानें फायदे और नुकसान, धारण करने के जानें नियम सुबह से खिली है तेज धूप; जुड़ने लगे हैं गंगा के घाट अंबाला कैंट के PWD रेस्ट हाउस में सुनेंगे शिकायतें

पूर्व प्रभारी कुलपति डा. संजय ने कहा- अटल विवि है मेरा मायका

बिलासपुर। संभागायुक्त व पूर्व प्रभारी कुलपति डा.संजय अलंग ने शुक्रवार को बिलासा सभागार में आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय मेरा मायका है। विश्वविद्यालय के साथ प्रेम सदैव बना रहेगा। अनुभव साझा करते हुए कहा कि यहां काम करने की असीम संभावनाएं हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविश्वविद्यालय के बिलासा समाभार में आभार व सम्मान समारोह हुआ। पूर्व प्रभारी कुलपति डा. संजय का आभार और नए कुलपति प्रो.अरुण दिवाकर नाथ वाजपेयी का सम्मान किया गया। इस अवसर पर डा. संजय ने प्रभारी कुलपति के रूप में किए गए अपने कार्यों व अनुभव को साझा किया।

उन्होंने नए कुलपति को दो सूर्य वाला कुलपति के नाम से संबोधित किया, जिनके तेज से पूरा विश्वविद्यालय ऊर्जावान व प्रकाशमान होगा। नवनियुक्त कुलपति को सहयोग देने के लिए वे हर समय तैयार रहेंगे। नए कुलपति प्रो. दिवाकर ने भी पूरी आत्मीयता से डा. संजय की तुलना महाभारत के संजय से करते हुए कहा कि इतने वर्षों के कार्यकाल में पहला ऐसा प्रशासनिक आइएएस मेरे सामने हैं जिनकी साहित्य में गहरी रुचि है। उन्होंने छात्रहित में काम करने को लेकर भी वादा किया। साथ ही उन्होंने छात्रहित में निर्णय लेते हुए विवि के विकास को लेकर समर्पित होने की बात कही।

कुलपति प्रो. वाजपेयी ने विश्वविद्यालय में शोध के क्षेत्र में नए कीर्तिमान रचने का संकल्प लिया। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक सौमित्र तिवारी, यशवंत कुमार पटेल, डा. पूजा पांडेय, गौरव साहू, हामिद अब्दुल्ला, डा. सीमा बेलोरकर, डा. लतिका भाटिया, विज्ञान महाविद्यालय के प्राचार्य डा. एसआर कमलेश, डा.मनोज सिन्हा, डा.अन्न्ूभाई सोनी, डा.आलोक शर्मा, प्रदीप सिंह, नेहा यादव, विकास शर्मा, मनीष सक्सेना आदि उपस्थित थे।