ब्रेकिंग
ना बैनर लगाऊंगा, ना पोस्टर लगाऊंगा, ना ही किसी को एक कप चाय पिलाऊंगा, उसके बाद भी अगले लोकसभा चुनाव में भारी मतों से चुन कर आऊंगा, यह मेरा अहंकार नहीं... नए जिला बनाने पर बड़ा बयान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ऐसे बयान की किसी को नही थी उम्मीद छत्तीसगढ़ में लगातार पांचवे उपचुनाव में कांग्रेस जीती, भाटापारा मंडी में जमकर हुई आतिशबाजी, मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भानूप्रतापपुर की जीत मुख्य... Choosing Board Webpage Providers 5 Reasons to Ask Someone to Write My Essay For Me 5 Reasons to Ask Someone to Write My Essay For Me Avast Password Off shoot For Stainless- Antivirus Review - How to Find the very best Antivirus Computer software आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया Money Back Guarantee For Paper Writer

बिहार के सुपौल में बड़ी वारदात : एक साथ फंदे से झूलते मिले परिवार के पांच सदस्‍य, दुर्गंध से खुला राज

पटना/ भागलपुर/ सुपौल:  बिहार के सुपौल (Supaul) जिले से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। सुपौल जिले के राघोपुर थाना क्षेत्र (Raghopur Police Station) के गद्दी गांव (Gaddi Village) के वार्ड चार में एक घर के अंदर से एक ही परिवार के पांच सदस्‍यों के शव मिले हैं। सभी शव घर के अंदर एक ही कमरे में फंदे से लटके मिले हैं। इनमें पति-पत्‍नी, दो बेटियां और एक बेटा शामिल है। यह घर पिछले कुछ दिनों से बंद था और घर के सदस्‍य किसी को बाहर नहीं दिखे थे। आसपास के लोगों को काफी तेज दुर्गंध महसूस होने पर अनहोनी की आशंका से इस घर की पड़ताल की गई तो पूरा मामला सामने आया।

घटना की सूचना मिलते ही खुद पहुंचे एसपी

इस खौफनाक वारदात की सूचना मिलते ही आसपास के इलाके में सनसनी फैल गई। स्‍थानीय ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची राघोपुर थाने की पुलिस भी घर के अंदर का नजारा देखकर हैरान रह गई। थाने के स्‍तर से इस बड़ी वारदात की सूचना तुरंत वरीय अधिकारियों को दी गई। सूचन मिलते ही एसपी मनोज कुमार खुद ही घटनास्‍थल पर पहुंच गए

फोरेंसिक टीम के आने का हो रहा इंतजार

वारदात की जांच के लिए पुलिस फोरेंसिक टीम के आने का इंतजार कर रही है। पुलिस हर पहलू से मामले की जांच कर रही है। हालांकि प्रथम दृष्‍टया मामला सामूहिक आत्‍महत्‍या का माना जा रहा है। गांव वाले भी ऐसा ही अंदेशा जाहिर कर रहे हैं।

गांव वालों से अधिक संपर्क नहीं रखता था परिवार

यह परिवार गांव वालों से अधिक संपर्क नहीं रखता था। गांव वालों का यह भी कहना है कि परिवार का कोई भी सदस्‍य पिछले कुछ दिनों से मुहल्‍ले में दिखा नहीं था। इससे अंदेशा जताया जा रहा है कि कम से कम दो-तीन दिन पहले ही सभी सदस्‍यों की मौत हो गई होगी। परिवार पर कर्ज और गरीबी की बात भी चर्चा में है।