ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

मंच पर नाट्य रूप में दिखाई फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी

भोपाल। राजधानी भोपाल में स्थित गांधी भवन में चल रहे नाट्य समारोह के दूसरे दिन रविवार शाम को नाटक ‘नकबेसर’ का मंचन किया गया। निर्देशन आनंद मिश्रा का था, जबकि मंच पर अपने अभिनय के जरिए इसे पेश करने का जिम्‍मा अक्षदा सोशल वेलफेयर सोसायटी के कलाकारों ने संभाला।

यह नाटक दरअसल फणीश्वरनाथ रेणु के आत्म-रेखाचित्र एक बुलंद खुदी… उर्फ मशहूर ‘नकबेसर’ का किस्सा है एवं पांडुलेख पर केंद्रित है। रेणुजी इस रेखाचित्र के माध्यम से कहते हैं कि जो चित्रगुप्त महाराज ने लिख दिया, वही जीवन में उन्होंने किया है। वो ये भी कहते हैं कि भगवान चित्रगुप्त ने उन्‍हें धरती की विशेष मांग पर भेजा है। वो पहले प्रकाशन से लेकर जीवन के संघर्ष जैसे मिठाई की दुकान की मैनेजरी, लाइब्रेरियन की नौकरी आदि का जिक्र करते हैं। वह विभिन्न संगठनों में जुड़कर देश्‍ा की आजादी के लिए क्रांतिकारियों के साथ जेल गए और अंग्रेजों की लाठियां भी खाईं। यह सब उनकी रचना प्रक्रिया में दिखता है।

इतना ही नहीं, उन्होंने गांव में जो जीवन रस प्राप्त किया, वह भी उनकी रचनाओं में रेखांकित होता हैं। रेणुजी ने एक बार ये भी कहा था कि वह अपनी आत्मकत्था में सच और सिर्फ सच ही लिखेंगे। ऐसा उन्‍होंने अपने मित्रों को वचन भी दिया था। इस नाटक में शिवेंद्र सिंह, अजय दाहिया, प्रभाकर द्विवेदी, प्रदीप तिवारी, प्रफुल्ल तिवारी, मुकेश गौर, सुमुख मिश्र, आमिर रजाक, भूमिका ठाकुर, मोनिका विश्वकर्मा, जूली, प्रिया, देवांश बघेल ने सराहनीय अभिनय पेश करते हुए दर्शकों को मंत्रमुग्‍ध कर दिया।