ब्रेकिंग
एक महीने में हुए चार 'दुराचारी सभा' में पहुंचे सिर्फ 844 हिस्ट्रीशीटर,दरी पर बैठना उन्हें नहीं पसंद बोले- 5 साल से कर रहा था तैयारी, अब बना राजस्थान का टॉपर गुरु अमरदास एवेन्यू के निवासियों ने ब्लॉक किया जीटी रोड, MLA के खिलाफ प्रदर्शन भूप्रेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा गांधीवादी तरीके से करेंगे विरोध, सरकार रद्द करके अग्निपथ फर्जी दस्तावेज तैयार कर कब्जाई थी जमीनें, पुलिस की गिरेबान पर हाथ डालने के बाद आया था चर्चा में सनी नागपाल भुवनेश्वर कुमार तोड़ेंगे पाकिस्तानी गेंदबाज का रिकॉर्ड डेब्यू मैच में फ्लॉप रहे उमरान मलिक घर में रखा फ्रिज सिर्फ उपकरण नहीं, है वास्तु शास्त्र की रहस्मयी व्याकरण... इस दिशा में रखने से चमक जाता है भाग्य पंचायत के प्रथम चरण के चुनावों के बाद EVM का हुआ रेंडमाइजेशन  जी-7 समिट में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने गर्मजोशी से किया स्वागत

सोमनाथ मंदिर को लूटने वाले महमूद गजनवी की तारीफ पड़ी भारी, पुलिस ने मौलाना को किया गिरफ्तार

अहमदाबाद। सोमनाथ मंदिर के पास खडे़ होकर उसे लूटने वाले महमूद गजनवी को इस्लाम का नेक इंसान बताने वाला वीडियो बनाकर उसे वायरल करने वाले इरशाद रशीद को हरियाणा के पानीपत से गिरफ्तार कर लिया गया है। इसमें वह कहता है कि आज गजनवी को चोर-लुटेरा कहा जाता है। लेकिन वह इस्लाम का गौरव है। गुजरात के ऐतिहासिक सोमनाथ मंदिर से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर खडे़ होकर मौलाना इरशाद रशीद ने एक वीडियो बनाकर वायरल किया।

सोमनाथ ट्रस्ट के प्रबंधक विजय सिंह चावडा ने इस संबंध में पुलिस को एक शिकायत दर्ज कराई। इसके आधार पर पुलिस ने उसे पानीपत से गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, पुलिस ने आधिकारिक रूप से इसकी पुष्टि नहीं की है। इरशाद ने जो वीडियो वायरल किया, उसमें वह समुद्र किनारे खड़े होकर सोमनाथ मंदिर की ओर इशारा करते हुए कहता है कि यह वही मंदिर है, जिसे महमूद गजनवी व मुहम्मद कासिम ने फतह किया था। कासिम ने अपनी सेना के साथ इसी सागर को पार कर भारत को जीत लिया था। यह वही समुद्र है जो पाकिस्तान को भारत से जोड़ता है। गजनवी को इस्लाम का नाम रोशन करने वाला तथा महान पुरुष बताते हुए इरशाद आगे कहता है कि उसके इतिहास को पढ़ना व पढ़ाना चाहिए।

विवाद बढ़ा तो सफाई देने लगा

इरशाद ने कहा है कि चार मई, 2019 को वह गुजरात गया था। सोमनाथ भी घूमने गया। उस दौरान यह वीडियो बनाया था। सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट ने उसके खिलाफ शिकायत की तो उसने दूसरा वीडियो बनाकर जारी कर दिया। इसमें वह अपनी बातों का गलत अर्थ निकालने की बात करने लगा है। वह कहता है कि मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा सब पूजा स्थल हैं। बस सबके तरीके अलग-अलग हैं। उसका मकसद मंदिर का अपमान करना या किसी की भावना को आहत करना नहीं था।

मदरसे में पढ़ाता है इरशाद

महमूद गजनवी को महान पुरुष बताने वाला पानीपत का इरशाद रशीद कुटानी रोड पर मदरसे में पढ़ाता है। उसकी गिरफ्तारी के बाद से उससे जुड़े लोग खास हैरान नहीं हैं। उनका कहना है कि वाट्सएप और फेसबुक पर वह इस तरह की आपत्तिजनक बातचीत करता रहता था। उसे कई बार टोका गया, लेकिन नहीं माना। अब मंदिर के सामने खडे़ होकर अपना वीडियो वायरल कर दिया। वीडियो पुराना है लेकिन खतरा था ही कि वह पकड़ा जाएगा।