ब्रेकिंग
गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत बोरिंग माफियाओं की मनमानी से इंदौर में गहराया जल संकट नहीं रोक लगा पा रहा नगर निगम, आज भी रोजाना हो रहे 20-25 अवैध बोरिंग चीनी विमान जानबूझकर नीचे लाकर क्रैश कराया गया था श्रीराम सेना का दावा- कर्नाटक में 500 अवैध चर्च ग्राम देवादा में जल सभा का आयोजन एक ही परिवार के 3 लोगों के मर्डर का खुलासा, परिजन ही निकले हत्यारे, ये बनी हत्या की वजह

2017 से सेल में वेतन समझौता लंबित, आक्रोशित कर्मियों ने रेल पटरी का उत्‍पादन किया ठप

रायपुर।  भारतीय इस्‍पात प्राधिकरण (सेल) के कर्मचारियों का एक जनवरी 2017 से वेतन समझौता लंबित है। सेल की सबसे बड़ी इकाई भिलाई इस्‍पात संयंत्र (बीएसपी) के कर्मचारियों का गुस्‍सा अब प्रबंधन पर भड़क उठा है। बीएसपी कर्मचारियों ने यूनिवर्सल रेल मिल (यूआरएम) में कामकाज बंद कर दिया है। शनिवार सुबह नौ बजे से कर्मचारियों ने दुनिया की सबसे लंबी 130 मीटर की रेल पटरी का उत्‍पादन ठप कर दिया।

वेतन समझौता तत्काल लागू करने की मांग करते हुए डेढ़ सौ युवा कर्मचारी मुख्य द्वार पर धरने पर बैठ गए हैं। इस तरह से धरना को लेकर प्रबंधन में हड़कंप मच गया है। संयंत्र के निदेशक प्रभारी तक हरकत में आ गए। भिलाई इस्पात संयंत्र के लिए इस समय यूआरएम ही कमाऊ पूत है। रेलवे के ऑर्डर को पूरा करने के लिए कर्मियों को काम शुरू करने की सलाह दी जा रही है। रेल पटरी उत्‍पादन प्रभावित न होने पाए, इसलिए आक्रोशित कर्मचारियों को समझाया जा रहा है।

लंबित वेतन समझौता को लेकर दिल्ली स्तर पर कई दौर की बैठकें हो चुकी है। बैठक में सेल की सभी इकाइयों से यूनियन नेता शामिल हुए थे। इन बैठकों में वेतन समझौते के लिए लगातार चर्चाएं हो रही हैं, लेकिन फैसला नहीं लिया जा रहा है। इसे लेकर कर्मचारियों में दिन प्रतिदिन आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

कर्मचारियों ने मान्यता प्राप्त इंटक के अलावा सीटू, एचएमएस के पदाधिकारियों से अपनी बात रख चुके हैं। यही नहीं इंटरनेट मीडिया पर भी लगातार युवा कर्मचारी अपने आक्रोश को प्रकट कर चुके हैं। बावजूद भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन द्वारा इस दिशा में गंभीरता नहीं दिखाई गई।

कर्मचारियों की मांग

10 फीसद एमसीबी

6 फीसद वेरिएबल पर्क्स

10 फीसद फिजिक्सड पर्क्स

1 जनवरी 2020 से 31 मार्च 2021 तक का तुरंत भुगतान, शेष 39 महीनों का किस्तों में वित्तीय स्थिति के अनुसार भुगतान हो

अब तक हुई बैठकें

17 दिसंबर 2020

20 जनवरी 2021

27 फरवरी 2021

16 मार्च 2021

31 मार्च 2021