ब्रेकिंग
आर्थिक आधार से गरीब लोगों के आरक्षण में कटौती के विरोध में आज भाटापारा अनुविभागीय अधिकारी के कार्यालय जाकर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा सत्तापक्ष पर जमकर बरसे विधायक शिवरतन शर्मा, आरक्षण रुकवाने जो लोग कोर्ट गए उन्हें मुख्यमंत्री जी पुरस्कृत करते हैं,सत्र ... रायपुर विधानसभा विशेष सत्र। विधानसभा में आरक्षण बिल के दौरान ब्राह्मण नेताओं पर जमकर बरसे बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, उनके मुंह पर करारा तमाचा मार... अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भाटापारा नगर इकाई की हुई घोषणा मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने मंडी समिति के नए सदस्य को दिलाई शपथ, उद्बोधन में कहा भारसाधक पदाधिकारीयो की नियुक्ति के बाद से मंडी लगातार चहुमुखी विकास क... मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने धान ख़रीदी केंद्रो का निरीछन कर, धान बेचने आये किसानो से मुलाक़ात कर, धान बेचने में आने वाली समस्या की जानकारी ली, किसानों... ग्राम मर्राकोना में नवीन धान उपार्जन केंद्र के शुभारंभ अवसर पर मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा भूपेश सरकार किसानों की सरकार है ग्राम मर्राक़ोंना में नवीन धान उपार्जन केंद्र को मिली हरी झंडी मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने दी जानकारी ट्रक चोरी करने वाले 06 आरोपियो को किया गया गिरफ्तार, मंडी के पास लिंक रोड के किनारे खड़ी ट्रक को किया था चोरी, उड़ीसा से हुई बरामद रायपुर में शिवमहापुराण कथा:पंडित प्रदीप मिश्रा का प्रवचन सुनने लाखों लोग पहुंचे , अनुमान से अधिक लोगों के पहुंचने के कारण पंडित जी को कहना पड़ा घर में...

कोरोना लॉकडाउन का असर- प्‍लास्टिक वेस्‍ट में आई 93 फीसद की आई कमी

भोपाल। राजधानी में लॉकडाउन से भले ही आम इंसान परेशान है, लेकिन इस परेशानी के बीच एक में अच्छी खबर ये है कि पर्यावरण की दुश्मन कही जाने वाली प्लास्टिक का इस्तेमाल न के बराबर रह गया है। दरअसल लॉकडाउन में सब कुछ बंद है, जिसकी वजह से रोजाना निकलने वाले करीब 900 मीट्रिक टन कचरा जहां 300 मीट्रिक टन पर सिमट गया है, वहीं कचरे में प्लास्टिक का प्रतिशत महज सात फीसदी है। यानी कचरे में शामिल प्लास्टिक वेस्ट में 93 फीसदी की कमी आई है। बता दें कि हर दिन शहर में निकलने वाले करीब 900 मीट्रिक टन कचरे में 102 टन प्लास्टिक वेस्ट शामिल होता है। इसमें अमानक पॉलीथिन की हिस्सेदारी करीब 100 टन होती है। बता दें कि राज्य सरकार ने 24 मई 2017 को प्लास्टिक कैरी बैग (70 माइक्रोन से कम) के इस्तेमाल पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया था। यानी प्लास्टिक कैरीबैग का खरीदने-बेचने के साथ ही इसका इस्तेमाल करने वालों पर जुर्माने का प्रावधान है। इतनी सख्ती के बाद भी पॉलीथिन का इस्तेमाल नहीं रुक रहा। हकीकत ये है कि फल-जब्जी के ठेले वाले, किराना दुकानदार और हाट बाजारों में खुलेआम प्लास्टिक कैरीबैग का इस्तेमाल किया जा रहा है

68 टन प्लास्टिक हो पाती है रिसाइकिल

सॉलिड वेस्ट एक्सपर्ट और राज्य स्तरीय ठोस प्रबंधन सलाहकार समिति के सदस्य इम्तियाज अली बताते हैं कि आम दिनों में भोपाल में रोजाना औसतन 850-900 मीट्रिक टन कचरा निकलता है, इसमें 102 टन कचरा प्लास्टिक होता है। इसमें से 68 टन प्लास्टिक रीसाइकिलेबल, जबकि 34 टन प्लास्टिक नॉन रीसाइक्लेबल होती है। उन्होंने बताया कि पॉलिथीन बैग अपने आप कभी नष्ट नहीं होता है। इसके जलने पर डॉईआक्सिन गैस पैदा होती है, जो जहरीली गैसों में शुमार है।

एक व्यक्ति फैलाता है 12 ग्राम प्लास्टिक कचरा

शहर में रोजाना निकलने वाले 900 मीट्रिक टन सॉलिट वेस्ट को आबादी के हिसाब से देखें तो रोज प्रति व्यक्ति 400 ग्राम कचरा निकलता है। जबकि एक दिन में निकलने वाले सॉलिड वेस्ट में प्लास्टिक वेस्ट की हिस्सेदारी 102 टन होती है। ऐसे में साफ है कि एक व्यक्ति रोजाना करीब 12 ग्राम प्लास्टिक कचरा फैलाता है।

रोजाना बिकती है 12 मीट्रिक टन पॉलीथिन

शहर में प्रतिबंधित पॉलीथिन कारोबार की बात करें तो रोजाना 10 से 12 टन प्लास्टिक कैरीबैग की खरीद-फरोख्त और खपत होती है। शहर में बिकने वाली ज्यादातर पॉलीथिन गुजरात और महाराष्ट्र से आती है। अब जब लॉकडाउन में सब बंद है, तो न पॉलीथिन बिक रही है और न ही उसका इस्तेमाल किया जा रहा है।