ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

91 साल की उम्र में मॉरीशस के पूर्व PM का निधन, प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री ने जताया दुख

नई दिल्ली। मॉरीशस के पूर्व प्रधानमंत्री अनिरुद्ध जगन्नाथ का 91 साल की उम्र में 3 जून, 2021 को निधन गया है। अनिरुद्ध जगन्नाथ मॉरिशस के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति दोनों ही पदों पर कार्य कर चुके हैं। जगन्नाथ के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दुख जताया है।

पीएम मोदी ने दुख जातते हुए लिखा,’ प्रवासी अनिरुद्ध जगन्नाथ पर गर्व है उन्होंने द्विपक्षीय संबंध बनाने में मदद की, जिससे उनकी विरासत को फायदा मिलेगा। तो वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, ‘मॉरिशस के पूर्व प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के निधन की खबर सुनकर अत्यंत दुख हुआ है। वह एक बुलंद नेता के साथ भारत के अच्छे मित्र थे’। विदेश मंत्री ने एस जयशंकर ने जगन्नाथ से हुई मुलाकात को भी याद किया।

प्रथम प्रवासी भारतीय सम्मान से नवाजा जा चुका है

अनिरुद्ध जगन्नाथ का निधन हिंदी प्रेमी के तौर पर बहुत बड़ी क्षति हुई है। भारत और हिंदी के प्रति अपने खास लगाव के लिए पहचाने जाने वाले अनिरुद्ध जगन्नाथ को प्रथम प्रवासी भारतीय सम्मान से नवाजा गया था। प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ के पिता अनिरुद्ध जगन्नाथ के पूर्वज उत्तर प्रदेश के बलिया से मॉरिशस पहुंचे थे।

अनिरुद्ध जगन्नाथ के पूर्वज उत्तर प्रदेश के बलिया जिले केरसड़ा थाना इलाके के अठिलपुरा गांव में रहने वाले थे। उनके पिता विदेशी यादव और चाचा झुलई यादव को अंग्रेजी हुकूमत ने 1873 में गिरमिटिया मजदूर के रूप में गन्ने की खेती के लिए जहाज से मॉरीशस भेजा था। आज यह परिवार मॉरिशस का सबसे प्रतिष्ठित राजनीतिक परिवार के रूप में जाना जाता है।

वैवाहिक जीवन

जगन्नाथ का विवाह सरोजिनी बल्लाह से 18 दिसंबर 1957 में हुआ था। उनकी दो संताने हैं। एक का नाम है प्रविंद और दूसरी बेटी जिसका नाम शालिनी है। अनिरुद्ध जगन्नाथ यादव जाति से संबंध रखते थे। उनके बेटे प्रविंद मिलिटेंट समाजवादी आंदोलन के नेता हैं और उनका विवाह कबिता रामदानी से हुआ। जगन्नाथ की पुत्री शालिनी भी विवाहित हैं।

जगन्नाथ का राजनीति सफर

जगन्नाथ को प्रथम प्रवासी भारतीय सम्मान से नवाजा गया था। जगन्नाथ मॉरिशस में मूवमेंट सोशलिस्ट मिलिटेंट पार्टी के नेता रहे। वह बतौर आईएफ़बी प्रत्याशी पहली बार 1963 में संसद के लिए चुने गए। इसके बाद वह 1965 में ऑल मॉरिशस हिंदू कांग्रेस के सदस्य बने। साल 1965-66 में शिवसागर रामगुलाम की सरकार में उन्हें विकास राज्य मंत्री बनाया गया और नवम्बर 1966 में वे श्रम मंत्री बने।

जगन्नाथ 1970 में मूवमेंट मिलिटेंट मॉरिसिएन में शामिल हुए और उसके बाद उसी दल के नेता बने। वह 1976 में हुए चुनाव में जीते और विपक्ष के नेता भी चुने गए। वर्ष 1982 में जगन्नाथ को बड़ी जीत मिली और उन्हें प्रधानमंत्री चुना गया।