ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

12वीं के स्‍टूडेंट्स के लिए लाइफटाइम एचीवमेंट जैसी हो गई पीएम मोदी के साथ हुई वर्चुअल मीटिंग

नई दिल्‍ली। 12वीं के एग्‍जाम रद करने के बाद लगभग सभी स्‍टूडेंट्स और उनके पैरेंट्स को इस बात की चिंता सता रही थी कि आखिर उनकी आगे की एजूकेशन के लिए और एडमीशन के लिए क्‍या प्रोसेस होगा। इसके अलावा एक चिंता उन्‍हें ये भी सता रही थी कि आखिर एग्‍जाम रद होने के बाद स्‍टूडेंट्स को 12वीं के नंबर किस आधार पर तय होंगे। जिस दिन से केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए 12 के एग्‍जाम रद करने का फैसला लिया था तभी से हर कोई दुविधा में था। इसकी वजह थी कि ये उनके बच्‍चों के भविष्‍य से जुड़ी थी।

उनकी इस चिंता का समाधान पीएम नरेंद्र मोदी ने उनके सामने वर्चुअल तौर पर एक इंट्रे‍क्टिव सेशन में आकर दिया तो उन्‍हें लगा कि जैसे ये कोई सपना हो। जिस किसी ने भी इस इंट्रेक्टिव सेशन में हिस्‍सा लिया उसके लिए ये पूरी जिंदगी न भूलने वाला पल बन गया। वो इस सेशन का हिस्‍सा बनने से फूले नहीं समा रहे हैं। इसका आयोजन शिक्षा मंत्रालय ने किया था। इस इंट्रेक्टिव सेशन के बाद इन छात्रों ने अपनी खुशी को कुछ यूं इजहार किया

इंदौर की अर्णी सबल ने कहा कि ये उसके लिए एक लाइफटाइम ऑपरचुनिटी थी कि वो पीएम मोदी के साथ रूबरू हुई है। इस पल को कभी नहीं भुलाया जा सकता है। ये बेहद खास और अलग तरह का अहसास था। हम नहीं जानते थे कि पीएम मोदी इस बैठक में आने वाले हैं। हम सोच रहे थे कि हमारे विचारों को किसी एसेसमेंट की तरह लिया जाएगा। अर्णी ने कहा कि जब उन्‍होंने पीएम मोदी को इस सेशन में देखा तो वो हैरान हो गईं।

उनके मुताबिक पीएम मोदी ने इस दौरान जो कुछ कहा वो न सिर्फ उनके लिए बल्कि सभी के लिए काफी प्रेरणादायक रहा। हरियाणा के पंचकुला जिले के हितेश्‍वर शर्मा ने कहा कि पीएम मोदी ने उससे पूछा कि एग्‍जाम रद होने के बाद कैसा लग रहा है। तो उसने जवाब उसको अच्‍छा नहीं लग रहा है, लेकिन वो ये जातना है कि जीवन और स्‍वास्‍थ्‍य से अधिक कुछ महत्‍वपूर्ण रही है। पीएम मोदी के साथ हुए इस सेशन में जहां स्‍टूडेंट्स शामिल थे वहीं कुछ पैरेंट्स ने भी अपनी बातें रखीं। इस दौरान पीएम मोदी ने धैर्यपूर्वक छात्रों की बातें सुनी और एग्‍जाम रद करने पर उनके विचारों को भी जाना।

इस सेशन के दौरान जहां कुछ इस फैसले से नाखुश दिखाई दिए वहीं कुछ ने इस फैसले को सराहा और इसके लिए पीएम मोदी समेत सीबीएसई का धन्‍यवाद भी किया। इनका कहना था कि ये एक अच्‍छा फैसला है। पीएम मोदी ने छात्रों से कहा कि वो भविष्‍य की तरफ देखें। उनका कहना था कि 1 जून तक आप सभी अपने एग्‍जाम को लेकर संजीदा भी थे और उसकी तैयारी में लग्‍न थे।

मंगलवार को सरकार ने कोरोना महामारी को देखते हुए इसको रद करने का फैसला किया। 12वीं के रिजल्‍ट को लेकर छात्रों के संशय को दूर करते हुए पीएम मोदी नेकहा कि सीबीएसई एक तय समय के अंदर रिजल्‍ट तैयार कर लेगी। इसके लिए पूरी प्रक्रिया भी तय हो गई है। पिछले वर्ष की ही तरह इस बार भी कई छात्रों की इच्‍छा एग्‍जाम में बैठने की थी। ऐसे छात्रों को सीबीएसई हालात ठीक होने पर एक विकल्‍प मुहैया करवाएगी।

आपको बता दें कि 12वीं के एग्‍जाम रद करने का फैसला पीएम मोदी के नेतृत्‍व में हुई बैठक के बाद लिया गया था। इसकी जानकारी देते हुए पीएम मोदी ने अपने एक ट्वीट में कहा था कि ये फैसला छात्रों के हित को ध्‍यान में रखते हुए लिया गया है। लेकिन इससे पहले एग्‍जाम करवाने को लेकर फैसला हुआ था। लेकिन पूरे देश से ही इस बारे में इनपुट मिल रहे थे, जिसके बाद एग्‍जाम रद करने का फैसला लेना पड़ा। सीबीएसई के बाद आईएससी ने भी अपनी 12वीं की परिक्षाएं रद कर दी थीं।