ब्रेकिंग
विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद छत्तीसगढ़ भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष होंगे किरण सिंह देव

अलपन ने केंद्र को दिया जवाब, कहा- जो ममता ने कहा, वो किया

केंद्र और पश्चिम बंगाल के बीच जारी तनातनी में एक नया नाम जुड़ गया है। बंगाल सरकार के पूर्व सेक्रेटरी अलपन बंद्योपाध्याय ने भारत सरकार को नोटिस का जवाब भेज दिया है। केंद्र सरकार की ओर से 31 मई को अलपन बंद्योपाध्याय को नोटिस भेजा गया था।

सूत्रों के मुताबिक, अलपन ने अपने जवाब में कहा है कि उन्होंने वही किया जो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने निर्देश दिया। सूत्रों ने बताया कि अलपन समीक्षा बैठक  के दिन समय सीमा के साथ चीजों को स्पष्ट करते हुए जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि वह उस समय मुख्यमंत्री के साथ थे और उत्तर और दक्षिण 24 परगना में हवाई सर्वेक्षण कर रहे थे। वह प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मर्जी के मुताबिक दीघा गए थे।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले हफ्ते साइक्लोन यास के बाद बंगाल में जाकर समीक्षा बैठक की थी। लेकिन अलपन उस मीटिंग में नहीं पहुंचे थे। केंद्र सरकार ने कल नोटिस जारी कर तीन दिन में शामिल न होने का कारण मांगा था। केंद्र सरकार की ओर से डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के सेक्शन 51 (B)  का इस्तेमाल किया था। अलपन से नोटिस में पूछा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों न की जाए, इसका कारण तीन दिनों में बताएं।