ब्रेकिंग
सतगुरू कबीर संत समागम समारोह दामाखेड़ा पहुंच कर विधायक इन्द्र साव ने लिया आशीर्वाद विधायक इन्द्र साव ने विधायक मद से लाखों के सी.सी. रोड निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन भाटापारा में बड़ी कार्यवाही 16 बदमाशों को गिरफ़्तार किया गया है, जिसमें से 04 स्थायी वारंटी, 03 गिरफ़्तारी वारंट के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करने व... अवैध शराब बिक्री को लेकर विधायक ने किया नेशनल हाईवे में चक्काजाम अधिकारीयो के आश्वासन पर चक्का जाम स्थगित करीबन 1 घंटा नेशनल हाईवे रहा बाधित। भाटापारा। अवैध शराब बिक्री की जड़े बहुत मजबूत ,माह भर के भीतर विधायक को दोबारा बैठना पड़ा धरने पर , विधानसभा सत्र छोड़ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं ... श्रीराम जन्मभूमि में नवनिर्मित भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भाटापारा भी रामभक्ति की लहर पर जमकर झुमा शहर में दीपमाला, भजन, आतिशबाजी, भंडा... मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम मंदिर अयोध्या की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष में भाटापारा में भी तीन दिवसीय आयोजन, बाइक रैली, 24 घंटे का रामनाम... छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की करारी हार के बाद प्रभारी शैलजा कुमारी की छुट्टी राजस्थान के सचिन पायलट होंगे छत्तीसगढ़ के नए प्रभारी साय मंत्रिमंडल में कल ,ये 9 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ साय मंत्रिमंडल का कल होगा विस्तार 9 मंत्री लेंगे शपथ बलौदा बाजार को भी मिलेगा पहली बार मंत्री पद

एक जुर्म की दो बार मिली सजा, डीजीपी दरबार में सुनवाई के बाद निपटा मामला

रायपुर। छत्तीसगढ़ पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर को एक जुर्म के लिए दो बार सजा मिल गई। करीब एक साल भटकने के बाद सब इंस्पेक्टर अशोक द्विवेदी डीजीपी डीएम अवस्थी के दरबार में पहुंचे। उन्होंने दस्तावेज पेश किए और पूरे मामले को डीजीपी के सामने रखा। जांच के बाद डीजीपी ने तत्काल मामले को खत्म करने के निर्देश दिए।

यह डीजीपी के स्पंदन कार्यक्रम के कारण संभव हो सका, जिसके तहत उन्होंने पुलिसकर्मियों की समस्याओं को सुलझाने विशेष प्रयास शुरू किया है। स्पंदन कार्यक्रम में अब तक 100 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की समस्याओं का तत्काल निराकरण हुआ है।

सब इंस्पेक्टर अशोक द्विवेदी ने बताया कि वर्ष 2004 में धमतरी में पदस्थ रहने के दौरान उनको सजा मिली थी। कोर्ट ने सजा पर विचार करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद वर्ष 2009 में एक बार फिर सजा दे दी। दोबारा सजा मिलने के बाद वे लगातार डीजीपी से संपर्क कर अपनी गुहार लगाने की कोशिश कर रहे थे।

इस बीच, स्पंदन कार्यक्रम को लेकर डीजीपी ने नंबर जारी किया, जिसमें पुलिसकर्मी भी अपनी शिकायत को दर्ज करा सकते हैं। द्विवेदी ने स्पंदन कार्यक्रम में जनवरी में अपनी समस्या को लेकर आवेदन किया। लाकडाउन के कारण उनके मामले में सुनवाई का नंबर मई में आया।

डीजीपी ने खुद पूरे मामले की सुनवाई की और उनकी अपील को सही पाते हुए पूरे मामले को खत्म कर दिया। खास बात यह है कि लाकडाउन के दौरान जब पूरे दफ्तर बंद थे, उस समय डीजीपी वर्चुअल माध्यम से पुलिसकर्मियों की शिकायतों पर सुनवाई कर रहे थे।

कोरोना की दूसरी लहर में मृत के स्वजनों को जून तक अनुकंपा

कोरोना की पहली लहर में अपनी जान गंवाने वालों को अनुकंपा नियुक्ति देने के बाद अब पुलिस मुख्यालय कोरोना की दूसरी लहर में मृत पुलिसकर्मियों के स्वजनों की अनुकंपा नियुक्ति पर विचार कर रहा है। पहली लहर में जान गंवाने वाले 25 पुलिसकर्मियों के स्वजनों को अनुकंपा नियुक्ति मिल गई है। डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया कि दूसरी लहर में जान गंवाने वालों की सूची को अंतिम रूप दे दिया गया है। जून के आखिरी सप्ताह तक सभी योग्य उम्मीदवारों को नियुक्ति दे दी जाएगी।