Braz
ब्रेकिंग
ग्रीस में छुट्टियां मनाकर लौटे हार्दिक पांड्या फतेहाबाद में 2 शिकायतों के बाद सेंट्रल बैंक की जांच में खुलासा; हैड कैशियर पर FIR युवक की तलाश करने उतरे मछुआरे की मिली लाश 10 महीने बाद किसानों ने खोला मोर्चा, लखीमपुर बना ‘मिनी पंजाब’; केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग शहर में 10 घंटे रहेंगे शाह... सुरक्षा में तैनात रहेंगे 40 आईपीएस अफसर और 3000 जवान बिहार में मौसम विभाग का अलर्ट दवा के साथ न करें इन चीजों का सेवन सबरीमाला मंदिर का इतिहास भगवान श्रीकृष्ण की हर लीला भक्तों के मन को है लुभाती निजी क्षेत्र में देश का सबसे बड़ा 2600 बेड का है अस्पताल, 64 आपरेशन थियेटर, 81 गंभीर बीमारियों के स्पेशलिस्ट डॉक्टर करेंगे इलाज

नक्सली नेता करते हैं ब्रांडेड वस्तुओं का इस्तेमाल, निचले कैडर से भेदभाव

जगदलपुर।  सीपीआइ माओवादी (प्रतिबंधित) के बड़े नेता जंगल में मंगल की स्थिति में रहते हैं। वे निचले कैडर के गुरिल्लाओं को इस्तेमाल के लिए सस्ते जूते और घटिया सामान देते, जबकि खुद ब्रांडेड जूते और महंगे ब्रांड की चीजों का उपयोग करते हैं।

बीते शुक्रवार को छत्तीसगढ़ व ओडिशा सीमा पर चांदामेटा में हुई मुठभेड़ के बाद बरामद सामान से यह बात उजागर हुई है। पुलिस को यहां ब्रांडेड कंपनियों के जूते, फिल्टर वाटर, हर्बल साबुन व अन्य सामान मिले हैं। इससे साम्यवाद के नाम से झंडाबरदारी करने वाले नक्सलियों के चाल, चरित्र व चेहरे में विरोधाभाष नजर आता है।

शुक्रवार को सुकमा जिले के तुलसीडोंगरी से पहले चांदामेटा के जंगल में नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में एक महिला नक्सली मारी गई थी। इस दौरान मौके की सर्चिंग में पुलिस ने एके-47, इंसास, पिस्टल समेत ब्रांडेड हर्बल उत्पाद, साबुन, टूथपेस्ट, शैम्पो, ब्रांडेड मिनरल वाटर, जूते आदि बरामद किए हैं।

नक्सल मामलों के जानकारों के अनुसार नक्सली नेता पूंजीवाद की मुखालफत व साम्यवाद की वकालत भोली जनता को महज क्रांति की घुट्टी पिलाने के लिए करते हैं। असल में पहले पंक्ति के नक्सल लीडर भौतिक सुख-सुविधाओं में लिप्त रहते हैं। इसके विपरीत बस्तर के स्थानीय लड़ाकों को न्यूनतम सुविधाएं ही मुहैया करवाते हैं। बता दें कि स्थानीय आदिवासी युवक नक्सल संगठन में एरिया कमेटी से ऊपर प्रमोट नहीं किए जाते। केंद्रीय नेतृत्व में केवल आंध्र, तेलंगाना व दीगर राज्यों के ही नक्सली हैं।

वर्जन

मुठभेड़ के बाद सामान बरामद किए गए। सामान काफी महंगे और ब्रांडेड हैं। दीगर राज्यों के नक्सली नेता बस्तर के आदिवासी युवाओं को गुमराह कर उनका इस्तेमाल कर रहे हैं। मोर्चे पर बड़े नेता तो पीछे होते हैं जबकि स्थानीय सदस्यों को मरने के लिए फ्रंट पर रखते हैं। नक्सली बस्तर में स्कूल तोड़ते हैं। बच्चों को शिक्षा से वंचित कर उन्हें बाल संघम में भर्ती करते हैं, लेकिन खुद के बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाते हैं। उनकी कथनी और करनी में अंतर है। कोरोनाकाल में बड़े कैडर के नेताओं का इलाज नक्सलियों ने आंध्र प्रदेश के बड़े अस्पतालों में करवाया, जबकि लोकल कैडर को मरने के लिए छोड़ दिया।

– सुंदरराज पी, आइजी, बस्तर रेंज

Braz