ब्रेकिंग
सोमवार के दिन धन लाभ होगा या जाएंगे यात्रा पर, पढ़ें, आज का अपना राशिफल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या  दो माह में 13 बार बढ़ी सीएनजी की कीमत

पालिका कर्मचारी ने नगरपालिका की छत पर लगाई खुद को फांसी, विवादों के घेरे में पालिका

भाटापारा। नगर पालिका मैं आज सुबह उस समय अफरातफरी का माहौल बन गया, जब दोपहर 1बजे के करीब पालिका कर्मचारी जो स्वास्थ्य विभाग में स्वीपर के रूप में कार्यरत था उसने नगरपालिका की छत पर लगी छड़ पर रस्सी बांधकर खुद को फांसी लगा ली। जानकारी के मुताबिक नगर पालिका में स्वास्थ्य विभाग से संबंधित कर्मचारी काफी समय से परेशान चल रहे है, मौके पर मौजूद कर्मचारियों का कहना था कि कुछ समय से हमें वेतन नहीं मिल पा रहा और हमारे कुछ साथियों को भी पालिका से निकाल दिया गया है।
इस विषय पर भाटापारा नगर पालिका सीएमओ का कहना है कि पालिका में कार्यरत समस्त कर्मचारियों को समय पर तनखा दी जाती है, कभी-कभी कुछ समय के लिए विलंब जरूर होता है ,पर वर्तमान में कोई ऐसी स्थिति नहीं है और जिन कर्मचारियों को निकाला गया है, वे शासन की गाइडलाइन के अनुरूप ही कार्य किया गया है। सुसाइड करने वाले कर्मचारी का व्यक्तिगत मामला हो सकता है।

नगर पालिका अध्यक्ष प्रतिनिधि का कहना है कि हम कर्मचारी की आत्महत्या के बारे में कुछ नहीं कह सकते।

सवाल उठता है कि प्रदेश की बड़ी नगर पालिकाओं में से भाटापारा नगर पालिका कुछ समय से विवादों के घेरे में चल रही है। अधिकारी कर्मचारियों की मनमानी, जनप्रतिनिधियों का कर्मचारियों पर दबाव ना होना, निरंतर प्रगति से कार्य ना होना, अतिक्रमण, निर्माण कार्यों में देरी तथा फाइलों का गुम होना,जैसे अनेक मुद्दे विगत वर्षों से पालिका की छवि को खराब कर रहे हैं। अब कर्मचारी के द्वारा आत्महत्या के बाद पालिका की कार्य प्रणाली पर और भी प्रश्न खड़े हो रहे है। कर्मचारी की आत्महत्या से समझा जा सकता है कि पालिका किस हाल में चल रही है।