ब्रेकिंग
Essay Help From Licensed Authors Come affrontare Nervosismo estremo मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज गांधी जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना 'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना' के शुभारंभ महिला श्रमिक की मौत पर की खबर के बाद जागे परिवहन विभाग और ट्रैफिक पुलिस, नामली थाना क्षेत्र में की कार्रवाई AIIMS : ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर बैन अब तक 7 के शव बरामद, आईएएफ ने 2 चीता हेलीकॉप्टर किए तैनात, 8 लोगों का सफल रेस्क्यू क्या Pavitra Punia- Ejaz Khan ने  कर ली सगाई? दशहरे के दिन ही खुलता है रावण के इस मंदिर का द्वार खुद स्टार्ट किया पम्पिंग सेट, कहा- पशुओं में दूध की होती है वृद्धि हटाए गए कर्मियों को नौकरी देने की मांग, 19-20 को करेंगे भूख हड़ताल

सांसद साव के बाद अब विधायकाें ने एयरपोर्ट विस्तार के लिए बनाया दबाव

बिलासपुर। बिलासा एयरपोर्ट के विस्तार और विमानों की संख्या बढ़ाने की मांग को लेकर बुधवार को मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक डा.कृष्णमूर्ति बांधी,बेलतरा के विधायक रजनीश सिंह व अकलतरा के विधायक सौरभ सिंह ने केंद्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलकर अपनी बात रखी। भाजपा के विधायकों ने बिलासा एयरपोर्ट को थ्री सी से फोर सी श्रेणी में उन्न्यन करने व विमानों की संख्या बढ़ाने की मांग की

बिलासा एयरपोर्ट के उन्न्यन को लेकर बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद अस्र्ण साव ने पूर्व केंद्रीय नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी से मुलाकात की थी। नागर विमानन मंत्रालय की जिम्मेदारी सिंधिया को मिलने के बाद सांसद साव ने बिलासा एयरपोट के उन्न्यन को विमानों की संख्या बढ़ाने की मांग करते हुए पत्र लिखा था। केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने मंत्री सिंधिया को पत्र लिखकर बिलासा एयरपोर्ट के उन्न्यन के साथ ही अंबिकापुर से हवाई सुविधा प्रारंभ करने की मांग की थी।

वर्तमान में एयरपोर्ट से दिल्ली,जबलपुर और प्रयागराज के लिए निजी विमानन कंपनी द्वारा उड़ान शुरू की गई है। नाइट लैंडिंग की सुविधा भी एयरपोर्ट में नहीं है। बिलासा एयरपोर्ट को थ्री सी से फोर सी श्रेणी में उन्न्यन की मांग विधायकों ने की है। फोर सी श्रेणी में अपग्रेड होते ही यहां नाइट लैंडिंग की सुविधा भी मिल जाएगी।

रनवे विस्तार के लिए 200 एकड़ जमीन की जस्र्रत

बिलासा एयरपोर्ट को फोर सी श्रेणी में उन्न्यन करने से पहले रनवे का विस्तार करना होगा। इसके लिए तकरीबन 200 एकड़ जमीन की जस्र्रत पड़ेगी। वर्तमान में यह जमीन सैन्य मंत्रालय के कब्जे में है। राज्य शासन द्वारा सेना के कब्जे वाली जमीन को वापस लेने के लिए सैन्य मंत्रालय से पत्र व्यवहार प्रारंभ कर दिया है। जमीन हस्तांतरित होने के बाद रनवे विस्तार का कार्य प्रारंभ होगा। इसके बाद ही फोर सी श्रेणी के रूप में बिलासा एयरपोर्ट का अपग्रेडेशन होगा।