ब्रेकिंग
1.64 लाख चोरी; गड़बड़ी पकड़े जाने से पहले ही रफू चक्कर हो गया बड़ी संख्या में भक्तों ने किया मनमोहक गरबा कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें | How to Start Computer and Laptop Repairing Business in Hindi बालोद की MLA संगीता सिन्हा ने जमकर खेला गरबा, खुद के बीच जनप्रतिनिधि को पाकर खुश हुई जनता करनैल गेट पर फायरिंग; 10 युवकों ने किया हमला; बदमाश बुलेट बाइक छोड़ कर फरार गरीबों के मिल रही सुविधा, फिजियोथेरेपी और सिलाई-कढ़ाई की दी गई जानकारी ट्रेडिशनल वेयर्स में स्टाइलिश लुक के लिए इन फुटवेयर्स को करें ट्राय ईरान से चीन जाने वाली फ्लाइट में  बम की सूचना से हड़कंप मकान बनाने वालो के लिए सुनहरा मौका, सरिया सीमेंट के दामों में आयी गिरावट चेतना अभियान के अंतर्गत महिला पुलिस थाना मुरैना द्वारा माता के पंडाल मे जाकर मानव दुर्व्यापार के संबंध मे जागरूक किया जाकर

भाजपा बोली- ये कांग्रेस की सरकार है या सर्कस पार्टी

रायपुर। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। मंत्री टीएस सिंहदेव कप्तान बनने की इच्छा जाहिर कर रहे हैं। प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया अलग राग अलाप रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम स्थिरता की बात कर रहे हैं और 50 विधायक दिल्ली में है। ये कांग्रेस की सरकार है या कोई सर्कस पार्टी। खुद तो नाच रहे और प्रदेश की जनता को भी नचा रहे हैं।

साय ने सवाल किया कि तीन चौथाई बहुमत की सरकार को कौन अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्पष्ट करें। विधायक अरुण वोरा का बयान कि मुखिया के निर्देश पर सभी विधायक दिल्ली जा रहे हैं। क्या इस बात को प्रमाणित नहीं करता कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस अध्यक्ष मरकाम दोनों झूठ बोल रहे हैं? साय ने पूछा क्या इस पूरे घटनाक्रम से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनभिज्ञ हैं? इतने बड़े राजनीतिक संकट के बावजूद कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष की कोई भूमिका नजर क्यों नहीं आ रही?

छत्तीसगढ़ के प्रभारी पीएल पुनिया का ट्वीट और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम का बयान कहता है कि छत्तीसगढ़ से किसी भी विधायक को दिल्ली नहीं बुलाया गया। फिर छत्तीसगढ़ के विधायक मंत्री किसके इशारे पर दिल्ली गए हैं? कहीं खिसकती कुर्सी बचाने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का अंतिम शक्ति प्रदर्शन का प्रयास तो नहीं? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल विधायकों के दिल्ली प्रवास पर कहते हैं कि अपने नेता से मिलने कोई भी जा सकता है।

यह ठीक भी है, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को अनुशासन की अपील करनी पड़े और पुनिया को कहना पड़े कि किसी भी विधायक को नहीं बुलाया गया। तब इस सवाल का जवाब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को देना चाहिये कि प्रदेश अध्यक्ष से अनुशासन की अपील क्यों कराना पड़ा? भूपेश गुट के लोग कह रहे हैं कि वे विकास के लिए दिल्ली जा रहे हैं। क्या कांग्रेस के विकास की यही परिभाषा है?

कांग्रेस में चहुंओर विवाद की स्थिति: कौशिक

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि आल इंडिया कांग्रेस में आल इज वेज कुछ भी नहीं चल रहा है। पूरे देश में कांग्रेस के भीतर कहीं भी संवाद की स्थिति नहीं है। चहुं ओर केवल विवाद ही विवाद है। राज्यसभा सदस्य सरोज पांडेय ने कहा, छत्तीसगढ़ ने प्रचंड बहुमत देकर कांग्रेस की सरकार को प्रदेश की सेवा करने का मौका दिया। एक बार फिर से स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस के लिए सत्ता सुख भोगने का साधन है, जनसेवा का माध्यम नहीं है। दो महीनों से सभी विकास कार्य ठप कर सरकार घर के झगड़े सुलझा रही है। यह जनादेश का अपमान है।

कांग्रेस में मचा गैंगवार पार्टी का आंतरिक मामला नहीं

छत्तीसगढ़ भाजपा ने ट्वीट किया, छत्तीसगढ़ कांग्रेस में मचा गैंगवार पार्टी का आंतरिक मामला कतई नहीं है। वे अपना राष्ट्रीय अध्यक्ष वर्षों से नहीं चुन पाए हैं। यह आंतरिक मामला हो सकता है, लेकिन अभूतपूर्व जनादेश के बावजूद छत्तीसगढ़ को इस तरह अस्थिर करना आंतरिक मामला कैसे होगा भला? प्रदेश उनकी निजी सम्पत्ति थोड़े है। सभी विधायकों को सारा कामकाज छोड़कर शक्ति प्रदर्शन कराने सीएम बघेल दिल्ली भेज रहे हैं। कब तक उनकी ऐसी गुटबाजी से प्रदेश हलाकान होता रहेगा। पहले तो चुनाव जीतने के बाद हफ्तों लग गया, इन्हें सीएम चुनने में। उसके बाद लगातार यह गिरोहबंदी। क्या ऐसे चलता है लोकतंत्र?