ब्रेकिंग
बिहार के भागलपुर का तेतरी दुर्गा मंदिर, कभी गांव के लोगों को सपना देकर आयी थीं भगवती प्रदेश में सबसे अधिक सीहोर में शतायु मतदाता, भारत निर्वाचन आयोग करेगा सम्मानित गहलोत की सीएम कुर्सी भी हिलने लगी, दो दिन में सोनिया गांधी लेंगी फैसला खेलते-खेलते नाडी में डूबकर भाई-बहन सहित तीन की मौत सुवेंदु अधिकारी ने सीतारमण को लिखा पत्र, बंगाल सरकार पर फंड डायवर्ट करने का लगाया आरोप पोस्ट को लेकर गहलोत और पायलट समर्थक भिड़े पाकिस्तानी क्रिकेटर शहजाद आजम राणा का कार्डियक अरेस्ट के कारण हुआ निधन आईसीसी ने टी20 वर्ल्ड 2022 की प्राइज मनी का किया ऐलान माँ दुर्गा जी की तीसरी शक्ति का नाम ‘चन्द्रघण्टा’ है केमिकल स्टॉक ने दिया 52 हफ्ते का बेस्ट परफॉर्मेंस

सात साल बाद ग्रामीण अंचल की सड़कों के लौटेंगे दिन

रायपुर: रायपुर जिले के ग्रामीण अंचलों की सड़कों के दिन लौटने वाले हैं। सात साल बाद इन सड़कों की याद अधिकारियों को आई है। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत जिले की 15 सड़कों के चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण का काम किया जाएगा। इसके लिए पीएमजीएसवाय के अधिकारियों ने 19 प्रतिशत कम दर पर टेंडर जारी किया है। ठेका एजेंसी अक्टूबर माह से काम शुरू करेगी।

ठेका एजेंसी को एक साल के अंदर काम पूरा करने का लक्ष्य रखा है। पीएमजीएस वाय योजना के अधिकारी का कहना है कि टेंडर जारी कर दिया है। कंपनी ने विलो दर पर टेंडर लिया है। काम में लापरवाही ना हो इसलिए लगातार मानिटरिंग की जाएगी। पीएमजीएसवाय योजना से मिली जानकारी के मुताबिक, रायपुर जिले के अभनपुर, आरंग और तिल्दा ब्लाक में करीब सात साल पहले 15 सड़कों का निर्माण किया गया था।

पीएमजीएसवाय ने आठ करोड़ रुपये का टेंडर निकाला था। ठेका कंपनी ने 19 प्रतिशत कम दर पर ठेका लिया है। सात साल पहले गांव की आबादी के हिसाब से सड़कों की चौड़ाई 3.75 मीटर बनाई गई थी, लेकिन अब आबादी के साथ-साथ वाहनों की संख्या में भी इजाफा हो गया है, जिससे सड़कों की चौड़ाई कम पड़ रही है। सड़कों की हालत भी बेहद खराब हो चुकी है। सड़क बनाकर अधिकारी भूल गए थे। पीएमजीएसवाय योजना के तहत सड़कों के चौड़ीकरण के लिए दस करोड़ रुपये की स्वीकृति मिली है। सड़कों की चौड़ाई 5.5 मीटर करने के लिए मंजूरी मिली है।

आस-पास के गांव वालों को मिलेगा फायदा

इन सड़कों पर प्रतिदिन यात्री बसों का संचालन होता है। वहीं कार, टैक्सी, भारी वाहनों का आना-जाना लगा रहता है। ग्रामीण अंचलों में पिछले दस साल की तुलना में वाहनों की संख्या में इजाफा हुआ है। इस कारण इन मार्गों पर ट्रैफिक का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है। गांव वालों को मजबूरी में उबड़-खाबड़ मार्ग से गुजरना होता है। अब इन मार्गों को चौड़ा करने की योजना से लाखों लोगों को बड़ी राहत मिलेगी।

इन सड़कों का होगा काम

अभनपुर

– कोल्यारी से लखना मार्ग

– परसदा से अमोदी

– रवेली से कन्हेरा

तिल्दा

– खड़िया से मधईपुर

– कोटा से मोंहदीं

– टी 02 से टांडा

– सिलतरा से मांढर

– सिवनी से सिंगारभाठा

आरंग

– अमेठी से भोतीडीह

– भनसोज से डिगारी

– एनएच06 से पारागांव से राटाकाट

– धमनी से सोनपैरी

– परसदा से सेमरिया

– कुटेला से मोहमेला

– भंडारपुरी से धौराभाठा

– संकरी होने कारण आवागमन में परेशानी

वर्जन

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत 15 सड़कों का चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण का काम सात साल बाद किया जाएगा। 19 प्रतिशत कम दर पर टेंडर जारी किया गया है

– आरबी सोनी, ईई, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना