ब्रेकिंग
मथुरा पुलिस के हाथ लगे संदिग्ध के फोटो, चोरों की तलाश में जुटी पुलिस इलेक्शन मोड में काग्रेस, इसलिए 'दागियों' पर अभी नो एक्शन डॉक्टरी-इंजीनियरिंग की पढ़ाई के साथ विद्यार्थियों को स्टार्टअप के लिए भी सहयोग की व्यवस्था – मुख्यमंत्री चौहान अलवर पुलिस ने जीरो FIR दर्ज कर रेवाड़ी भेजी; महिला पर संगीन आरोप AAP सुप्रीमो ने ट्वीट लिखा- गुजरात का सह प्रभारी बनने के बाद AAP सांसद केंद्र के टारगेट पर टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi छत्तीसगढ़ के स्टार्टअप ईको सिस्टम को देखने जल्द आयेगा ऑस्ट्रिया का दल एंबुलेंस में पकड़े गए 25 करोड़ के फर्जी नोट नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. डहरिया ने नगर पंचायत समोदा को प्रदान की एम्बुलेंस गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया के करीबियों को मारने की बना रहे थे प्लानिंग, 4 पिस्टल रिकवर

शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति, स्वास्थ्य कर्मियों के नियमित नौकरी को लेकर बनेगी कमेटी

रायपुर। दिवंगत शिक्षाकर्मियों और कोरोना काल के स्वास्थ्य कर्मियों के स्वजनों को अनुकंपा नियुक्ति देने के मामले में सरकार ने गंभीरता दिखाई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिक्षाकर्मियों के अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों की समीक्षा करने के लिए निर्देश दिया है। उनके निराकरण के लिए जल्द ही वरिष्ठ अधिकारियों की एक कमेटी गठित की जाएगी।

यह कमेटी शिक्षाकर्मियों की अनुकंपा नियुक्ति के लिए निर्धारित पात्रताओं का परीक्षण करेगी और अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपेगी। इसके बाद अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। जानकारी के मुताबिक शिक्षाकर्मी और स्वास्थ्य कर्मी समेत करीब छह हजार कर्मियों के स्वजनों की नौकरी का रास्ता खुल सकता है।

राजधानी में चल रहा है 52 दिन से धरना

बतादें कि दिवंगत पंचायत शिक्षक अनुकंपा संघ विगत राजधानी के बूढ़ा पारा धरना स्थल में 24 घंटे लगातार 52 दिन से धरना प्रदर्शन कर रहे है। इनका प्रमुख मांग है अनुकंपा नियुक्ति दी जाए। संघ के प्रांताध्यक्ष माधुरी मृगे ने बताया कि संघ में एक हजार से अधिक शिक्षाकर्मी हैं, जिनके स्वजन अनुकंपा नियुक्ति की लड़ाई लड़ रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने लिखा था मुख्यमंत्री को पत्र

कुछ दिन पहले संघ के पदाधिकारियों ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव से मुलाकात की थी और अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद मंत्री सिंहदेव ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था। मुख्यमंत्री के निर्देश के मुताबिक कोविड-19 के दौरान सेवा में लिए गए कोविड स्वास्थ्य कर्मियों की सेवा-निरंतरता और उनकी सेवा शर्ता के लिए भी वरिष्ठ अधिकारियों की एक कमेटी गठित की जा रही है। यह कमेटी भी इन स्वास्थ्य कर्मियों की सेवा निरंतरता और सेवा शर्त के संबंध में अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को देगी।