ब्रेकिंग
एटीएस ने बॉम्बे सीरियल बम धमाकों में कथित तौर पर शामिल होने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया आइए जानते हैं अपने सपनों की शादी के लिए आप सही मैरिज लोन का चुनाव कैसे करेंगे बाजार में हरियाली, सेंसेक्स 54554 पर खुला, Nifty 16300 के पार पहुंचा केवल एक दिन में करें छत्तीसगढ़ की यात्रा! आईआरसीटीसी के इस सस्ते टूर पैकेज का उठाएं फायदा राकेश झुनझुनवाला की अकासा को मिला ‘क्यूपी’ एयरलाइन कोड, यहां जानें किस दिन से भरेगी उड़ान गर्मी के चलते वेस्टर्न रेलवे ने 12 एसी लोकल ट्रेनें शुरू की, जानें कहां से कहां तक हैं ये ट्रेन पुलिस की सराहनीय पहल, प्रतिभावान छात्राओं के घर-घर जाकर किया सम्मानित, बच्चों ने आईएएस, डाॅक्टर व सीए बनने की जताई ईच्छा MP में तालों में कैद भगवान! MLA आकाश विजयवर्गीय बोले- जल्द खुलेगा बोलिया सरकार छत्री का शिव मंदिर एलपीजी गैस सिलेंडर पर लेना चाहते हैं सब्सिडी, फॉलो करें यह आसान प्रोसेस सूरज की तपिश से बादलाें ने दिलाई राहत

कार बेचने का झांसा देकर पिता-पुत्र ने लगाई दो लाख की चपत

रायपुर। कार बेचने का झांसा देकर पिता और पुत्र ने दो लाख रुपए की ठगी कर ली। ठगी का शिकार टाटीबंध निवासी राजवीर सिंह भामरा हुए हैं। आरोपित जसवंत सिंह बल और देवेंद्र सिंह बल ने रुपए लेने के बाद कार दूसरे व्यक्ति को बेच दिया। पीड़ित की शिकायत के बाद आमानाका थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार टाटीबंध निवासी राजवीर सिंह भामरा ने अपने मित्र देवेंद्र सिंह बल के पिता जसवंत सिंह के नाम से पंजीकृत क्रेटा हुंडई कार को लेने इच्छा जताई थी। इसलिए देवेंद्र सिंह ने उसकी मुलाकात अपने पिता से करवाई। जिसके बाद जसवंत सिंह कार को आठ लाख रुपए में बेचने के लिए सहमत हो गए।

इसके लिए राजवीर ने एडवांस के रूप में दो लाख रुपए दे दिए। इस पर उसे कार सौंप दिया गया। कुछ दिन बाद गाड़ी की आवश्यकता है करके आरोपित देवेंद्र राजवीर से गाड़ी की मांग किया। चूंकि देवेंद्र उसका मित्र था, इसलिए उसने गाड़ी दे दी। लेकिन जब उसके बाद पीड़ित राजवीर उससे वाहन मांगा तो वह टालमटोल करता रहा।

फिर पीड़ित द्वारा आरटीओ से पता करने पर यह जानकारी मिली कि आरोपित ने उसी कार को किसी साबिर खान नामक व्यक्ति को बेच दिया है। इस तरह आरोपितो ने राजवीर से पैसे लेने के बाद भी उस कार को किसी दूसरे को बेचकर धोखाधड़ी की घटना को अंजाम दिया है।

इस मामले में पुलिस ने देवेंद्र और उसके पिता जसवंत को आरोपी बनाया है। आमानाका पुलिस थाना प्रभारी भरत बरेठ ने बताया कि आठ लाख रुपए में गाड़ी का सौदा आरोपितों ने किया था। इसके लिए पीड़ित ने दो लाख दिए भी थे। लेकिन उस कार को आरोपितों ने किसी दूसरे को बेच दिया। आरोपित पिता पुत्र फरार हैं, जिसकी तलाश की जा रही है।