ब्रेकिंग
केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर दी बड़ी राहत, जानें कितने घट गए दाम केरल में भारी बारिश, IMD ने जारी किया येलो अलर्ट; खोले गए 2 बांध जयपुर से लौटे रमन, कहा- भाई-भतिजावाद और परिवारवाद की वजह से कांग्रेस की हुई ये स्थिति अब इस प्राइवेट सेक्टर के बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में की बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट ब्याज दर NIA अफसर तंजील अहमद मर्डर केस में मुनीर और रैयान को फांसी की सजा ज्ञानवापी मामले में ‘शिवलिंग’ पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले प्रोफेसर रतन लाल को ज़मानत, जानें कोर्ट में क्या-क्या हुआ पेटीएम को हुआ 762 करोड़ रुपये का घाटा, कंपनी ने कहा- सही रास्ते पर कारोबार जिला जज को हैंडओवर की ज्ञानवापी केस की रिपोर्ट UP विधानसभा लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगी : सतीश महाना 'ठेके-पटटे, तबादला-तैनाती' से रहें दूर : सीएम योगी

रेलवे नहीं दी ध्यान, चंदा कर व्यापारियों ने पटरी से हटवाया मवेशी का शव

बिलासपुर। रेलवे की लापरवाही के चलते उसलापुर स्टेशन के आसपास के व्यापारी बदबू से परेशान रहे। दरअसल पटरी पर एक मवेशी मालगाड़ी की चपेट में आकर मृत हो गया। शव दो लाइन के बीच में पड़ा रहा। इसके बाद उसे रेलवे ने नहीं हटाया। इधर व्यापारी बार- बार हटाने के लिए स्टेशन पहंुचते रहे। पर ध्यान नहीं दिया गया। आखिर में व्यापारियों ने मिलकर चंदा किया और नगर निगम अमले को बुलाकर शव को हटवाया। इसके बाद ही उन्होंने राहत की सांस ली।

घटना ओवरब्रिज से उसलापुर रेलवे स्टेशन के बीच की है। लाइन की दोनों तरफ रेलवे ने घेरा तो लगाया गया है पर कई जगह खाली है। जिससे आसानी से मवेशी पटरी पर आ जाते हैं। आम आदमी भी इसे रास्ता बनाकर पटरी पार करते हैं। खासकर ब्रिज के ठीक नीचे तो इतनी जगह है कि आसानी से लोग साइकिल लेकर भी कर लेते हैं। मवेशी भी अक्सर पटरी पर नजर आते हैं। यह वजह है कि एक मवेशी मालगाड़ी की चपेट में आ गया। इससे उसकी मौत हो गई। सूचना रेलवे स्टेशन में दी गई, लेकिन शव नहीं हटाया गया। इसी तरह दो दिन गुजर गए।

इधर व्यापारियों की परेशानी बढ़ गई। उन्होंने नगर निगम को सूचना दी पर पहले निगम ने रेलवे का क्षेत्र होने के कारण मवेशी का शव हटाने से मना कर दिया। इसकी जानकारी व्यापारियों ने रेलवे को भी दी। इसके बाद भी कोई असर नहीं हुआ। आखिर में व्यापारियों ने दोबारा नगर निगम के कर्मचारियों से निवेदन किया। जिसके बाद निगम का अमला पहंुचा और किसी तरह मवेशी के शव को हटाया गया। इसके बदले में व्यापारियों ने 400 रुपये दिया। बताया जा रहा है कि इस तरह की लापरवाही रेलवे की ओर से हमेशा होती है। पटरियों के दोनों ओर खाली जगह को भी बंद नहीं कर रहे हैं।